Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

हिन्दी कविता : चौबीस ती‍लियों वाला तिरंगा ध्वज

हमें फॉलो करें webdunia

श्रीमती इन्दु पाराशर

Indian Flag Poem
 
 
 
हे ध्वजा! राष्ट्र की, नील-गगन पर फहरो,
उन्मुक्त पवन में, लहर-लहर तुम लहरो। 
 
तेरा केशरिया रंग, वीर का बाना,
सीखा है इससे, सबने प्राण लुटाना।
 
और श्वेत रंग, जो धवल चांदनी सा है,
वह विश्व-शांति का, सबको संदेशा है।
 
और हरित रंग जो, फैला हरियाली सा,
वह उन्नति ऋद्धि-सिद्धि का, संदेशा है।
 
वह नील चक्र, चौबीस ती‍लियों वाला,
आगे बढ़ने की, बात करे मतवाला।
 
बस बढ़े देश का मान, न हो कुछ बांका,
हमको प्राणों से बढ़कर राष्ट्र-पताका।
 
हे ध्वजा! राष्ट्र की, नील-गगन पर फहरो,
उन्मुक्त पवन में, लहर-लहर तुम लहरो। 
 
साभार - बच्चो देश तुम्हारा  

webdunia

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

75वां स्वतंत्रता दिवस विशेष, कैसे करें इंडिपेंडेंस डे स्पीच की तैयारी, काम की बातें