कहानी : बकरी की सहेलियां (दोस्ती की परख)

Webdunia
एक बार की बात है, एक बकरी थी। वो बहुत खुशी-खुशी अपने गांव में रहती थी। वो बहुत मिलनसार थी। बहुत सारी बकरियां उसकी सहेलियां थीं। उसकी किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी। वो सभी से बात कर लेती थी और सभी को अपना दोस्त मान लेती थी।
 
सभी कुछ अच्छा चल रहा था। लेकिन एक बार वो बकरी बीमार पड़ी और इस कारण वह धीरे-धीरे कमजोर होने लगी इसलिए अब वो पूरा-पूरा दिन घर पर ही बिताने लेगी। बकरी ने जो खाना पहले से अपने लिए जमा करके रखा था, अब वो भी खत्म होते जा रहा था।
 
एक दिन उसकी कुछ बकरी सहेलियां उसका हाल-चाल पूछने उसके पास आईं, तब ये बकरी बड़ी खुश हुई। इसने सोचा कि अपनी सहेलियों से कुछ और दिनों के लिए वह खाना मंगवा लेगी। लेकिन वे बकरियां तो उससे मिलने के लिए अंदर आने से पहले ही उसके घर के बाहर रुक गईं और उसके आंगन में रखा उसका खाना घास-फूस खाने लगीं।
 
ये देखकर अब इस बकरी को बहुत बुरा लगा और समझ में आ गया कि उसने अपने जीवन में क्या गलती की? अब वो सोचने लगी कि काश! हर किसी को अपने जीवन का हिस्सा व दोस्त बनाने से पहले उसने उन्हें थोड़ा परख लिया होता है, तो अब इस बीमारी में उसकी मदद के लिए कोई तो होता।

ALSO READ: मांगो मत, ऊपर वाले को अपने हिसाब से देने दो

फायब्रॉइड हैं तो इन 5 चीजों का सेवन करें..मिलेगा आराम

जानिए गुड़ खाने के 24 बे‍हतरीन लाभ

शरीर को स्वस्थ, सुंदर और बलवान बनाना है, तो शहद के ये नुस्खे अपनाएं

लोटपोट कर देगा यह मजेदार जोक : दिन-रात मुझसे ही क्यों लड़ती हो

आज श्री गणेश चतुर्थी : राशि अनुसार लगाएं यह भोग, मिलेगी खुशी रहेंगे निरोग

सम्बंधित जानकारी

अगर दुल्हन बनने में बचे हों 1-2 महीने, तो इन 8 टिप्स को अपनाएं

जरूरत से ज्यादा सोना भी है खतरनाक, हो सकती हैं ये 7 परेशानियां

प्लास्ट‍िक बैग में फल, सब्जी या खाद्य पदार्थ रखना है खतरनाक, जानिए कारण

बीमारी से रहना है दूर तो करें जीभ की भी सफाई, जानिए 5 तरीके

गर्मियों में फूड पॉइजनिंग से कैसे बचें? जानिए 5 असरदार उपाय

क्यों करते हैं फूलों से स्वागत? कारण जानकर हैरान हो जाएंगे

पृथ्वी दिवस पर कविता : सोचो क्यों कर जिए जा रहे हैं?

विश्व पृथ्वी दिवस विशेष : आइए धरती का कर्ज उतारें

आज श्री गणेश चतुर्थी : राशि अनुसार लगाएं यह भोग, मिलेगी खुशी रहेंगे निरोग

12 राशियां और गणेश आराधना : आपकी राशि के लिए कौन से गणेश शुभ हैं

अगला लेख