चंद्र यदि है पहले भाव में तो रखें ये 5 सावधानियां, करें ये 5 कार्य और जानिए भविष्य

अनिरुद्ध जोशी

शनिवार, 14 मार्च 2020 (10:00 IST)
चंद्रमा वृषभ में उच्च, वृश्चिक में नीच का होता है। लाल किताब में चौथे भाव में चंद्रमा बली और दसवें भाव में मंदा होता है। शनि की राशियों में चंद्र में बुरा फल देता है। लेकिन लेकिन यहां पहले घर में होने या मंदा होने पर क्या सावधानी रखें जानिए।


कैसा होगा जातक : घर में रखे घड़े का शीतल पानी। शिक्षा पर लगा पैसा फायदा देगा। राजदरबार की नौकरी लाभप्रद रहेगी।  माता जब तक जिंदा है धन दौलात बरकरार समझो। यदि आठवें खर में शनी या चंद्र का कोई दुश्मन हो तो जन्म से पूर्व भाई या बहन की मृत्यु की संभावना।
 
चंद्र का पहला घर :
1. 24-27 की उम्र में शादी ना करें।
2. 24-27 की उम्र में मकान न बनाएं। 
3.हरे रंग व ससुराल वालों से दूर रहें।
4 .घर में टोटी के साथ एक चांदी की केतली न रखें।
5.चंद्र का दान नहीं लेना और न ही चंद्र की वस्तु को बेचना।
 
क्या करें : 
1. चंद्र नीचा यानि उचित फल देने वाला ना हो तो घर में चांदी की थाली रखें।
2. बच्चों की सलामती के लिए नदी में सिक्का डालें। 
3. चारपाई के चारों पायों में तांबें की कीलें ठोके। 
4. बड़ में पानी डालें।
5. पानी या दूध पीने के लिए हमेशा चांदी के बर्तन का प्रयोग करें।
webdunia-ad

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख Shitala Mata : शीतला माता की पौराणिक कथा, बसौड़ा पूजन के बाद अवश्य पढ़ें