Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

9 ग्रहों के ये 9 दान आपको 30 दिन में बना देंगे धनवान

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 3 फ़रवरी 2022 (15:02 IST)
nine donations of nine planets
कुंडली में स्थित ग्रहों की स्थिति के अनुसार दान करना चाहिए और दान नहीं भी करना चाहिए। यदि कुंडली के ग्रहों के अनुसार दान किया तो उसका लाभ मिलता है और यदि मन से कुछ दान किया तो उसका नुकसान भी हो सकता है। आओ यहां पर जानते हैं 9 ग्रहों के 9 दान जो बना देंगे आपको धनवान। उक्त बताए गए ग्रहों के दानों में से कोई एक दान आप कर सकते हैं।
 
 
1. सूर्य : गुड़, तांबा और गेहूं का दान करें।
 
2. चंद्र : दूध, कपूर, सफेद वस्त्र और चांदी का दान करें।
 
3. मंगल : मसूर की दाल, बताशे, केरस, लाल चंदन, खांड, सौंफ और रेवाड़ियां दान करें।
 
4. बुध : हरे साबुत मूंग, हरी चुनरी, वस्त्र और हरे रंगे के फल दान करें।
 
5. बुध : चने की दाल, हल्दी, पीले फल, केसर और पीले वस्त्रों का दान करें।
 
6. शुक्र : ज्वार, रुई, दही, इत्र, सफेद कपड़े, श्रृंगार की वस्तुएं, चावल, शक्कर और गाय को हरा चारा दान करें।
 
7. शनि : काला कपड़ा, कंबल, चाय की पत्ती, उड़द दाल, काले तिल, सरसों का तेल, लोहा, छाता, काले तिल और छाया दान करें। 
 
8. राहु : जौ, काले रंग का कपड़ा, कंबल सप्तधान्य का दान करें।
 
9. केतु : काला कपड़ा, काला तिल दोरंगी या चितकबरे कंबल का दान करें। 
 
 
कुंडली में यदि इस प्रकार की स्थिति है तो ये दान न करें
 
सूर्य :
*सप्तम/अष्टम सूर्य हो तो ताम्बे का और सुबह-शाम को दान नहीं दें।
*सूर्य बलवान होने पर सूर्य की वस्तुएं सोना, गेहूं, गुड़ व तांबे का दान नहीं दें।
 
चंद्र:
*चंद्र छठे भाव में है तो भूलकर भी दूध या पानी का दान न करें।
*चंद्र बलवान होने पर चांदी, मोती, चावल आदि का दान न करें।
*बारहवें भाव में चन्द्र हो तो भिखारियों को अन्न दान न करें।
*माता और मौसी को सुखी नहीं रखते हैं तो बर्बादी।
 
मंगल : 
*चौथे भाव में मंगल बैठा हो तो वस्त्र का दान नहीं करें।
*मंगल बलवान होने पर मिठाई, गुड़, शहद आदि मंगल की वस्तुओं का दान न दें।
 
बुध:
*बुध बलवान होने पर- कलम का दान न करें।
 
बृहस्पति:
*गुरु सप्तम भाव में हो तो कपड़ों का दान न करें।
*गुरु नवम भाव में है तो मंदिर आदि में दान नहीं करना चाहिए।
*गुरु पांचवें भाव में है तो धन का दान नहीं करना चाहिए।
*गुरु बलवान होने पर- पुस्तकों का उपहार नहीं देना चाहिए। 
*गुरु दशम या चौथे भाव में है तो घर या बाहर मंदिर न बनवाएं।
 
शुक्र:
*शुक्र बलवान होने पर सिले हुए सुंदर वस्त्र, सेंट और आभूषण उपहार में न दें। 
*शुक्र भाग्य भाव में हो तो पढ़ाई के लिए छात्रवृति, पुस्तकें व दवा के लिए दान नहीं करें।
 
शनि:
*शनि अष्टम भाव में हो तो किसी के लिए मुफ्त आवास का निर्माण न करें।
*शनि लग्न में व गुरु पंचम में हो तो कभी भी ताम्बे का दान नहीं करें।
*शनि बलवान होने पर शनि की वस्तु शराब दूसरों को न पिलाएं।
*शनि, आठवें भाव में हो तो भोजन, वस्त्र या जूते आदि का दान न करें।
*शनि प्रथम तथा गुरु पंचम में हो तो तांबे का दान न करें।
 
राहु:
*राहु दूसरे भाव में हो तो तेल व चिकनाई वाली चीजों का दान न करें।
 
केतु:
*केतु सातवें में हो तो लोहे का दान नहीं करना चाहिए।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

माघ पूर्णिमा के दिन स्नान, दान और तर्पण का महत्व, जानिए 5 फायदे