Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

दीपिका पादुकोण को महंगा पड़ा JNU जाना, सिकुड़ने लगा विज्ञापन का बाजार, कंपनियां सतर्क

webdunia
webdunia

नवीन रांगियाल

(सिकुड़ने लगा दीपिका पादुकोण के विज्ञापन का बाजार, कंपनियां हुईं सतर्क)

अभिनेत्री दीपिका पादुकोण के जेएनयू के साथ खड़ा होने के बाद विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। एक तरफ जहां उन्‍हें जमकर ट्रोल किया जा रहा है, वहीं अब इसका असर दीपिका की कमाई पर भी आ सकता है।

दरअसल, मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक दीपिका को लेकर उनसे जुड़ी हुई विज्ञापन कंपनियां अब सतर्क हो गई हैं। नुकसान की आशंका के चलते अब विज्ञापन कंपनियां सेलिब्रेटी के राजनीतिक रुख को ध्‍यान में रखते हुए अब विज्ञापन की शर्तों में बदलाव भी कर सकती हैं।

उल्‍लेखनीय है कि दीपिका पादुकोण कई बड़े उत्‍पादों वाली कपंनियों के विज्ञापन से जुड़ी हुई हैं। ऐसे में उनके जेएनयू में जाने के बाद जो विवाद शुरू हुआ है, उसके बाद विज्ञापन कंपनियों ने अब इसे लेकर नए सिरे से सोचना शुरू कर दिया है। बता दें कि हाल ही में अभिनेत्री दीपिका पादुकोण जेएनयू में लेफ्ट विंग के समर्थन में खड़ी हुई थीं। इसके बाद वे लोगों निशाने पर आ गईं। उन्‍हें ट्विटर पर भी ट्रोल किया जा रहा है। सोमवार को भी हैशटैग दीपिका हटाओ, लक्‍स बचाओ ट्रेंड कर रहा है।

विज्ञापनों को बाजार : इकोनॉमिक्‍स टाइम्‍स की एक रिपोर्ट के मुताबिक कुछ कंपनियों ने दीपिका वाले अपने विज्ञापनों को फिलहाल के लिए कम दिखाना शुरू कर दिया है। वहीं कुछ कंपनियों ने दीपिका के विज्ञापनों को दो हफ्तों के लिए रोक दिया है।

कुछ प्रसिद्ध सेलिब्रेटीज के एंडोर्समेंट्स संभालने वाली कंपनियों की तरफ से खबर आ रही है कि आने वाले समय में विज्ञापनों के करारों में नई शर्तें जोड़ी जा सकती हैं, जिनमें किसी सिलेब्रिटी के राजनीतिक रुख तय करने से प्रशासन के नाराज हो सकने वाले जोखिम का जिक्र होगा। कोका-कोला और ऐमेजॉन आदि को रिप्रेजेंट करने वाली आईपीजी मीडियाब्रांड्स में चीफ एग्जिक्यूटिव शशि सिन्हा के मुताबिक, 'सामान्य तौर पर ब्रांड सुरक्षित दांव चलते हैं। वे किसी विवाद से बचना चाहते हैं।'

क्‍या छपाक के प्रमोशन में उलझ गई दीपिका : फिल्म छपाक की रिलीज से तीन दिन पहले दीपिका 7 जनवरी को जेएनयू कैंपस गई थीं। वहां हुई झड़प में घायल जेएनयू छात्र संघ अध्यक्ष आइशी घोष के पास खड़ी दीपिका की तस्वीर वायरल हो गई थी। इसके बाद वे विवादों में आ गई हैं। कुछ लोग इसे उनकी फिल्‍म छपाक का प्रमोशन का तरीका भी मान रहे हैं। ऐसे में सवाल यह भी उठ रहे हैं कि क्‍या दीपिका को अंदाजा नहीं था कि उनके जेएनयू में जाने का क्‍या असर होगा और वे प्रमोशन की वजह से विवाद में उलझ गई।

40 करोड़ से कम कमाई: बायकॉट करने की अपीलों के बीच छपाक ने पहले दो दिनों में 11.67 करोड़ रुपए की कमाई की। शुक्रवार को इसका कलेक्शन 4.77 करोड़ रुपए था। शनिवार को बढ़कर 6.90 करोड़ रुपए हो गया। शुरुआती अनुमानों के मुताबिक रविवार को यह 9 करोड़ रुपए पहुंच गया था। इस फिल्म की कुल लागत 40 करोड़ रुपए से कम है।

दो हफ्तों के लिए रोका विज्ञापन : दीपिका पादुकोण ब्रिटानिया के गुड-डे, लॉरियल, तनिष्क ज्‍वेलर्स, विस्तारा एयरलाइंस और एक्सिस बैंक सहित करीब 23 उत्‍पादों के लिए विज्ञापन करती हैं। कंपनियों ने इन विज्ञापनों को दो हफ्तों के लिए रोक दिया है।

एक मीडिया बाइंग एजेंसी के एग्जिक्यूटिव ने कहा, 'मझोले आकार के एक ब्रैंड ने हमसे कहा है कि दीपिका वाले उसके विज्ञापन करीब दो हफ्तों के लिए रोक दिए हैं।

नेटवर्थ : दीपिका की नेटवर्थ 103 करोड़ रुपए है।
ट्विटर पर फॉलोअर्स : दीपिका के ट्विटर पर 2.68 करोड़ फॉलोअर हैं।
कमाई : जानकारी के मुताबिक एक फिल्म के लिए वह 10 करोड़ रुपए और विज्ञापन के लिए 8 करोड़ रुपए लेती हैं।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

नरेन्द्र मोदी की तुलना छत्रपति शिवाजी से, महाराष्ट्र में बवाल