मध्यप्रदेश में गोपाल भार्गव बने नेता प्रतिपक्ष, विधायक दल की बैठक में लगी मुहर

सोमवार, 7 जनवरी 2019 (19:13 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश में बीजेपी के सीनियर विधायक और पूर्व मंत्री गोपाल भार्गव नेता प्रतिपक्ष होंगे। बीजेपी प्रदेश  कार्यालय में हुई विधायक दल की बैठक में गोपाल भार्गव के नाम पर सभी विधायकों ने एकराय होकर अपनी  मुहर लगाई।
 
सागर के रहली से 8वीं बार के विधायक गोपाल भार्गव पार्टी के सीनियर नेता और संसदीय परंपराओं के जानकार  माने जाते हैं। अगर उनके सियासी सफर की बात करें तो वे 1982 से 1984 तक  गढ़ाकोटा नगर पालिका के अध्यक्ष रहे, वहीं वे पहली बार 1985 में विधानसभा के सदस्य चुने गए। उसके बाद से  वे लगातार विधायक चुने जाते रहे हैं।
 
गोपाल भार्गव पहली बार 2003 में उमा भारती सरकार में कैबिनेट मंत्री बने थे। इसके बाद से वे लगातार  बीजेपी सरकार में कैबिनेट मंत्री रहे। गोपाल भार्गव के संघ से काफी करीबी रिश्ते रहे हैं। नेता प्रतिपक्ष बनने के  बाद उन्होंने कहा कि पार्टी ने जो जिम्मेदारी उन्हें सौंपी है, उसे वे पूरा करने का प्रयास करेंगे।

विधायक दल की बैठक के बाद गृहमंत्री राजनाथसिंह ने गोपाल भार्गव के नाम का एलान किया है। बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने नेता प्रतिपक्ष के लिए गोपाल भार्गव के नाम का प्रस्ताव रखा जिसका सर्मथन पार्टी सीनियर नेता नरोत्तम मिश्र ने किया। इसके बाद सभी विधायकों ने सर्वसम्मति के गोपाल भार्गव को अपना नेता चुन लिया।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख कौनसे सवर्ण आरक्षण के पात्र होंगे, जा‍निए महत्वपूर्ण बातें...