दिग्विजय का दावा, BJP रच रही है कमलनाथ सरकार गिराने की साजिश

विशेष प्रतिनिधि

गुरुवार, 28 मार्च 2019 (20:58 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बार फिर बीजेपी पर विधायकों की खरीद-फरोख्त कर कमलनाथ सरकार को गिराने की साजिश रचने का बड़ा आरोप लगाया है।
 
प्रदेश कांग्रेस कार्यालय में मीडिया से बात करते हुए दिग्विजय सिंह ने बिना नाम लिए पूर्व मंत्री नरोत्तम मिश्रा पर निशाना साधते हुए कहा कि कर्जमाफी का सबूत मांगने वाले आजकल विधायकों की खरीद-फरोख्त कर सरकार गिराने में जुटे हुए हैं।
 
दिग्विजय के इन आरोपों के बीच मंदसौर के सुवासरा से कांग्रेस विधायक हरदीप सिंह डंग के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के साथ एक फोटो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है।
 
हरदीप सिंह डंग के पिछले कई दिनों से अपनी ही सरकार से नाराजगी की खबरें सामने आ रही हैं, वहीं बीजेपी के कुछ नेता भी हरदीप सिंह डंग के बीजेपी से संपर्क होने की बात स्वीकार कर रहे हैं।
 
इससे पहले कांग्रेस के दूसरे विधायक हीरालाल अलावा भी लोकसभा में टिकट बंटवारे से नाराज होकर बीजेपी के संपर्क में होने की बात कह चुके हैं।
 
दिग्विजय का यह बयान ऐसे वक्त आया है जब बीजेपी के नेता लगातार दावा कर रहे हैं कि लोकसभा चुनाव के बाद मध्यप्रदेश में बीजेपी की सरकार होगी।
शिवराज को दी बहस की चुनौती : भोपाल से दिग्विजय सिंह के कांग्रेस के उम्मीदवार बनने के बाद शिवराज सिंह चौहान ने इसे बंटाधार रिटर्न बताया था, वहीं अब दिग्विजय सिंह ने शिवराज पर पलटवार करते हुए चुनौती देते हुए कहा कि शिवराज किसी भी मंच पर उनकी सरकार के 10 साल और बीजेपी सरकार के 15 साल पर बहस कर लें।
 
दिग्विजय ने एक बार फिर दोहराया कि शिवराज और उनका परिवार कई घोटालों में शामिल हैं। बीजेपी सरकार के 15 साल में उनको फंसाने के लिए पूरा जोर लगाया लेकिन उनको निराशा ही हाथ लगी।
 
दिग्विजय ने कहा कि शिवराज कहते हैं कि उनके कार्यकाल के समय सिगरेट की पर्ची पर नियुक्ति होती थी लेकिन बीजेपी कोई भी पर्ची सामने नहीं ला पाई। दिग्विजय सिंह ने कहा कि राजनीति में नेताओं को अपनी कही बात पर टिका रहना चाहिए, जिसका मैंने अपने जीवन में पालन किया है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख ब्रिटेन की अदालतों में शुक्रवार को होगी माल्या और नीरव मोदी के मामलों पर सुनवाई