कर्नाटक और गोवा में टूट के बाद मध्यप्रदेश में हाईअलर्ट पर कांग्रेस, सिंधिया ने संभाला मोर्चा

गुरुवार, 11 जुलाई 2019 (20:40 IST)
भोपाल। कर्नाटक और गोवा में पार्टी विधायकों के इस्तीफे के बाद अब मध्यप्रदेश में कांग्रेस हाईअलर्ट मोड पर आ गई है। भाजपा के लगातार कांग्रेस सरकार के भविष्य पर सवाल उठाने के बीच कांग्रेस के दिग्गज नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया ने पार्टी के पूरी तरह एकजुट होने का संदेश देने के लिए खुद मोर्चा संभाल लिया है।
 
भोपाल पहुंचे सिंधिया ने मीडिया से बातचीत में कहा कि कमलनाथ सरकार पूरे 5 साल मजबूती के साथ चलेगी और पार्टी की सभी विधायक एकजुट होकर चट्टान की तरह सरकार के साथ खडे है, वहीं लंच पर मुख्यमंत्री कमलनाथ और ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीच ताजा राजनीतिक हालातों पर भी चर्चा हुई।
 
लंच के बाहर निकले सिंधिया ने कहा कि मुख्यमंत्री के साथ विकास के मुद्दों के साथ आगे सरकार की क्या और कैसी रणनीति होनी चाहिए इस पर चर्चा हुई।
 
विधायकों की खरीद फरोख्त की कोशिश : सिंधिया ने भाजपा पर कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह पिछले 6 महीने से लगातार विधायकों की खरीद-फरोख्त की कोशिश कर रही है, लेकिन पार्टी के सभी विधायक अपनी जवाबदेही अच्छी तरह समझते हैं और वे पूरी तरह सरकार के साथ हैं। 
 
सिंधिया ने विधायकों की खरीद-फरोख्त को भाजपा की सोच बताते हुए कहा कि जहां उसे सामने से एंट्री नहीं मिली है वहां वह बैकडोर से एंट्री की कोशिश में लगी हुई है। पार्टी में गुटबाजी के सवाल और अपने खेमे के मंत्रियों की नाराजगी की खबरों पर सिंधिया ने इस परिवार को मामला बताते हुए कहा कि हर कोई न्याय और सम्मान चाहता है, सिंधिया ने पार्टी में उठ रहे मंत्रियों के विरोध के स्वर को स्वस्थ परंपरा बताते हुए कहा कि जब समय आएगा तो पूरी कांग्रेस एक साथ रहेगी। सिंधिया ने कहा भाजपा पर तंज कसते हुए कहा कि मध्यप्रदेश में सत्ता पाने की बीजेपी की चाहत मुंगेरीलाल के हसीन सपने जैसी है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख दलित से शादी करने पर विधायक की बेटी ने न्यायालय से मांगी सुरक्षा, पिता से बताया जान का खतरा