लोकसभा चुनाव से पहले मध्यप्रदेश में संविदा कर्मचारियों को मिलेगा तोहफा!

भोपाल। मध्यप्रदेश में कमलनाथ सरकार लोकसभा चुनाव से पहले अब हर वर्ग को साधने में जुट गई है। विधानसभा चुनाव के समय कांग्रेस ने अपने वचन पत्र में जो भी वादे किए थे उन्हें पूरा करने में पार्टी अब तेजी से जुट गई है।


कमलनाथ सरकार ने पहले जहां किसानों को कर्जमाफी की तोहफा दिया तो वहीं अब सरकार कर्मचारियों को साधने में जुट गई है। सूबे की कमलनाथ सरकार लोकसभा चुनाव से पहले संविदा कर्मचारियों को बड़ा तोहफा देने की तैयारी कर रही है।

लोकसभा चुनाव के लिए आचार संहिता लगने से पहले प्रदेश सरकार संविदा कर्मचारियों को नियमित और बहाल करने के आदेश जारी करने की तैयारी में है।

प्रदेश की कांग्रेस सरकार बीजेपी सरकार के समय निष्कासित किए गए संविदा कर्मचारियों को बहाल करने का वादा पूरा करने जा रही है। इसके लिए प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है।

कांग्रेस सरकार निष्कासित कर्मचारियों को उन्हीं पदों पर वापस लेने की तैयारी कर रही है। इसके लिए मुख्यमंत्री कमलनाथ ने निर्देश दे दिए हैं। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव से पहले कमलनाथ सरकार संविदा कर्मचारियों को नियमित करने का भी फैसला ले सकती है।

इसके लिए सरकार ने जिम्मेदार अफसरों को नियमितिकरण का प्रस्ताव बनाने के निर्देश भी जारी कर दिए हैं। लोकसभा चुनाव से पहले कांग्रेस अपने वचन पत्र में दिए गए हर वचन को पूरा कर लोगों को स्पष्ट संदेश देना चाह रही है कि पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने चुनाव के समय कांग्रेस सरकार बनाने के लिए लोगों को जो भरोसा दिलाया था, उस पर कमलनाथ सरकार सौ प्रतिशत खरी उतर रही है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख जनसंख्या पर लगाम लगाने के लिए योगगुरु बाबा रामदेव ने दी बड़ी सलाह...