Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

MP : शिवराज सरकार का बड़ा फैसला, अब नहीं लगेंगी ऑनलाइन क्लासेस

webdunia
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp
share
मंगलवार, 27 अप्रैल 2021 (22:11 IST)
भोपाल। कोरोना महामारी के बीच मध्यप्रदेश स्कूली शिक्षा विभाग (School Education Department, MP) ने बड़ा फैसला लिया। राज्य में कक्षा 1 से 9वीं व 11वीं की संचालित हो रहीं ऑनलाइन कक्षाओं को रद्द कर दिया गया। कक्षा 10वीं व कक्षा 12वीं की कक्षाएं नियमित रूप से ऑनलाइन माध्यम से ही संचालित होंगी।
प्रदेश सरकार ने कुछ दिनों पहले ही फैसला लेते हुए 10वीं व 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं आगामी आदेश तक निरस्त की थीं। अब फैसला लिया कि प्रदेश की सभी सरकारी व प्राइवेट स्कूलों में संचालित ऑनलाइन कक्षाएं अब नहीं होंगी। 
 
आयुक्त लोक शिक्षण जयश्री कियावत ने बताया कि वर्तमान में कोविड संक्रमण विस्तार के कारण विद्यार्थियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा यह निर्णय लिया गया है। यह निर्णय सीबीएसई, आईसीएसई, माध्यमिक शिक्षा मंडल या किसी भी बोर्ड से संबद्ध सभी विद्यालयों पर लागू होगा। 
 
मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के 13,417 नए मामले : मध्यप्रदेश में मंगलवार को कोरोनावायरस संक्रमण के 13,417 नए मामले सामने आ। इसके बाद प्रदेश में कोविड-19 के कुल मामले 5,52,407 पहुंच गए। पिछले 24 घंटों में इस बीमारी से प्रदेश में 98 और व्यक्तियों की मौत हुई है। प्रदेश में अब तक इस बीमारी से मरने वालों की संख्या 5,319 हो गई है। यह जानकारी मध्य प्रदेश स्वास्थ्य विभाग के एक अधिकारी ने दी है।
 
उन्होंने कहा कि प्रदेश में मंगलवार को कोविड-19 के 1837 नये मामले इंदौर में आए जबकि भोपाल में 1836, ग्वालियर में 1198 एवं जबलपुर में 799 नये मरीज मिले। अधिकारी ने बताया कि प्रदेश में कुल 5,52,407 संक्रमितों में से अब तक 4,25,812 संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और 94,276 मरीजों का इलाज विभिन्न अस्पतालों में चल रहा है। उन्होंने कहा कि मंगलवार को 11,577 रोगियों को संक्रमण को मात देने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई।

Share this Story:
  • facebook
  • twitter
  • whatsapp

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

webdunia
दिल्ली के श्मशानों में Corona से मौत की तबाही का मंजर, अंतिम संस्कार के लिए करना पड़ रहा 20 घंटे लंबा इंतजार