प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एक बड़ा घोटाला : सिंधिया

मंगलवार, 13 नवंबर 2018 (00:10 IST)
बड़वानी। मध्यप्रदेश कांग्रेस की चुनाव प्रचार अभियान समिति के अध्यक्ष ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सोमवार को आरोप लगाते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के नाम पर बहुत बड़ा घोटाला किया गया।
 
 
सिंधिया ने जिले के सेंधवा विधानसभा क्षेत्र के बलवाड़ी में जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना एक बड़ा घोटाला है जिसके तहत किसानों की अनुमति के बगैर उनके खाते से राशि काटकर 3,000 करोड़ एकत्रित किए गए और अतिवृष्टि और ओलावृष्टि के चलते 600 करोड़ रुपए के फसल नुकसानी के दावे विरुद्ध 50 करोड़ का भुगतान भी नहीं किया गया।
 
उन्होंने भारतीय जनता पार्टी की विभिन्न सरकारों के हर मोर्चे पर विफल रहने का दावा करते हुए कहा कि दिल्ली में मोदीजी, उत्तरप्रदेश में योगीजी और मध्यप्रदेश में सबसे बड़े 'ढोंगीजी' सत्ता पर काबिज हैं जिनका नारा 'राम राम जपना, पराया माल अपना' है।
 
सिंधिया ने शिवराज सिंह चौहान पर निशाना साधते हुए कहा कि उनके मंदसौर गोलीकांड ने जलियावाला हत्याकांड की याद दिला दी। सिंधिया ने शिवराज को किसानों का सबसे बड़ा विरोधी करार दिया और मंदसौर कांड में दोषियों को सजा न दिला पाने के लिए चौहान और उनकी सरकार को जिम्मेदार ठहराया।
 
उन्होंने आरोप लगाया कि मंदसौर गोलीकांड के बाद शिवराज सिंह गुजरात से लाए गए 5 करोड़ के वातानुकूलित टेंट में किसानों की मौत पर बोलियां लगाते रहे और हिन्दू धर्म के विरुद्ध 13 दिन के पूर्व उनके मंत्री और विधायकों ने किसानों के परिजनों को जबरन उनका उपवास तोड़ने के लिए भोपाल बुलवाया।
 
सिंधिया ने कहा कि किसानों को फसलों के दाम नहीं मिलते हैं और उन्हें मंडियों में एक-एक हफ्ते तक लाइन में भूखे-प्यासे खड़े रहना पड़ता है और इसके बाद उन्हें जो चेक दिया जाता है तो उसे भुनाने के लिए बैंकों में लाइन लगाकर खड़ा होना पड़ता है।
 
सिंधिया ने आरोप लगाया कि उनके ऊर्जा मंत्री रहने के दौरान उन्होंने बड़वानी समेत मध्यप्रदेश के विभिन्न स्थानों पर विद्युत पोल, ट्रांसफर और तार लाकर दे दिए, किंतु शिवराज आज तक उन तारों में करंट नहीं दे सके और किसानों को भारी-भरकम बिजली का बिल थमाकर उनकी परेशानियों में इजाफा कर रहे हैं।
 
सिंधिया ने मुख्यमंत्री के नारे '14 वर्ष बेमिसाल' को लेकर कहा कि 15 वर्ष में भाजपा शासनकाल में मध्यप्रदेश बेहाल हो गया है, जहां गरीब को भोजन नहीं, किसान को फसल का दाम नहीं और नौजवान को रोजगार नहीं है। उन्होंने गत 15 वर्षों में हुए कथित भ्रष्टाचार को लेकर कहा कि भारतीय जनता पार्टी का नया नारा बन चुका है कि 'चाहिए परमिशन, तो दे दो कमीशन'।
 
उन्होंने कहा कि जितना ज्यादा किसान को खेत से प्रेम है, उतना ही ज्यादा भारतीय जनता पार्टी को रेत से प्रेम है। उन्होंने नर्मदा सेवा यात्रा को नर्मदा छलनी यात्रा करार देते हुए कहा कि प्रदेश में रेत माफिया ने शिवराज सरकार की सहायता से नर्मदा नदी को बेहद नुकसान पहुंचाया है। इसी तरह व्यापमं घोटाले के माध्यम से शिवराज ने लाखों नौजवानों का भविष्य बर्बाद किया। उन्होंने कहा कि हालात तो ये हो गए हैं कि नौजवान पकौड़े तल रहे हैं और बाबा मंत्री बन रहे हैं।
 
सिंधिया ने कहा कि राशन और मनरेगा से गरीबों की जगह भाजपा नेताओं ने लाभ उठाया। कांग्रेस के 4 संकल्पों- पहला कर्जा खत्म फसल को पूरी रकम, दूसरा हर योजना आपके द्वार, बंद होगा एमपी में भ्रष्टाचार, तीसरा अब होगी मध्यप्रदेश की तरक्की : हर घर एक नौकरी पक्की तथा चौथा हर नारी को सुरक्षा : हर गृहिणी को सम्मान के बारे में भी बताया।
 
सिंधिया ने कहा कि डॉलर मनमोहन सिंह के काल में 60 पर पहुंचने पर नरेन्द्र मोदी ने आईसीयू में पहुंचना बताकर काफी बवाल किया था और आज जब डॉलर के मुकाबले रुपए का दाम 72 है, तो क्या इसे रुपए को वे श्मशानघाट में ले जाना बताएंगे?
 
सिंधिया ने कहा कि बुलेट ट्रेन लाने की बजाय नरेन्द्र मोदी ने पेट्रोल और डीजल के दाम बुलेट जैसे बढ़ा दिए। सिंधिया ने जीडीपी में बढ़ोतरी को गैस (जी), डीजल (डी) और पेट्रोल (पी) में बढ़ोतरी की संज्ञा दी। बड़वानी के उपरांत वे खरगोन जिले के झिरनिया के लिए रवाना हो गए।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख राजस्थान में टिकट नहीं मिलने से मंत्री नाराज, भाजपा का दामन छोड़ा