‘द विक्‍टोरिया एंड अल्‍बर्ट म्‍यूजियम’ में नजर आएगा रॉक सिंगर ‘फ्रेडी मरकरी का किमोनो’

बीसवीं सदी में अपनी गायिकी, स्‍टाइल और सेक्‍शुअल प्रायॉरिटी की वजह से चर्चा में रहने वाले दुनिया के सबसे पॉपुलर रॉक बैंड ‘क्‍वीन’ के लीड सिंगर फ्रेडी मरकरी एक बार फिर से चर्चा में हैं।

दरअसल ‘क्‍वीन’ के सिंगर फ्रेडी जो किमोनो पहनते थे, उसे इस फरवरी के इस महीने में डिस्‍प्‍ले किया जाएगा। यह किमोनो लंदन के विक्‍टोरिया और अल्‍बर्ट म्‍यूजियम में प्रदर्शन के तौर पर रखा जाएगा।

यह पहली बार होगा जब दुनिया के किसी पॉपुलर गायक द्वारा उसके घर में पहने गए परिधान इस तरह सार्वजनिक किए जाएंगे। अब तक फ्रेडी के किमोनो को उनके प्राइवेट कलेक्‍शन में रखा गया था। लेकिन अब इसे उनके फैन और आम लोग देख सकेंगे।

जिस एक्‍सिबिशन में फ्रेडी के किमोनो रखे जाएंगे, उसे किमोनो: क्‍योटो टू कैटवॉक नाम दिया गया है। यह प्रदर्शनी 29 फरवरी को शुरू होगी।

किमोनो दरअसल, जापान का एक ट्रेडिशनल परिधान है। इसे वहां का एक टाइमलेस परिधान माना जाता है। जापान की इस संस्‍कृति को बढ़ावा देने के साथ ही किमोनो को फैशन की दुनिया में लाना इसका मकसद है।   
फ्रेडी मरकरी स्‍टेज परफॉर्मेंस के दौरान अपने अजीब और अलग तरह के कॉस्‍ट्यूम्‍स के लिए जाना जाता था। कई बार वो शर्टलेस भी स्‍टेज शो में देखा गया।

साल 1975 में जापान में अपने म्‍युजिकल टूर के दौरान फ्रेडी को जापान की एंटिक चीजों के कलेक्‍शन का शौक लगा था। उसी दौरान उसने अपना यह किमोनो खरीदा था।

हाल ही में द विक्‍टोरिया और अल्‍बर्ट म्‍यूजियम ने मीडिया में दावा किया है कि फ्रेडी अक्‍सर लाइव शो के दौरान भी बेहद बोल्‍ड किस्‍म में किमोनो पहना करता था। संभवत: यह अपनी सेक्‍शुअलिटी और जेंडर को चुनौती देने का उनका कोई तरीका हो।

फ्रेडी का किमोना सिंगर और सॉन्‍ग राइटर पिओर्क के साथ डिस्‍प्‍ले किया जाएगा। पिओर्क का यह ड्रेस ख्‍यात डिजाइनर अलेक्‍जेंडर मेकक्‍वीन ने डिजाइन किया था। जिसे उनके एल्‍बम ‘होमोजेनिक’ का कवर बनाया गया था।
शो के क्‍यूरेटर एन जैक्‍सन के मुताबिक मरकरी के परिधान इसलिए महत्‍वपूर्ण हैं क्‍योंकि वे सेक्‍शुअल, जेंडर और पहचान के साथ ही कल्‍चर को परिभाषित करते हैं। उन्‍होंने कहा, बीसवीं सदी के इस चमत्‍कृत कर देने वाले सिंगर के किमोनो का प्रदर्शन करना बेहद खुशी की बात है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख Vijaya Ekadashi 2020 : 10 दिशाओं से विजय दिलाती है विजया एकादशी, पढ़ें पूजा विधि एवं व्रतकथा