Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

अग्निपथ योजना को लेकर बिहार से गुरुग्राम तक बवाल, सड़क पर उतरे युवा, रेल ट्रैक किया जाम, पटना में जलाया रक्षामंत्री राजनाथ सिंह का पुतला

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 16 जून 2022 (18:45 IST)
नई दिल्ली। agnipath scheme bihar protest : सेना में भर्ती के लिए लाई गई 'अग्निपथ स्कीम' का विरोध तेज हो गया है। विपक्ष के साथ-साथ अब युवा भी इसके विरोध में आ गए हैं। बिहार, गुरुग्राम में बवाल जारी है।युवाओं ने प्रदर्शन के दौरान स्टेशन पर लूटपाट भी की। बिहार के कैमूर में अग्निपथ योजना को लेकर विरोध प्रदर्शन के दौरान ने ट्रेन में आग लगाई।
 
मध्यप्रदेश के ग्वालियर ने भी सरकार की इस योजना के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। यहां युवाओं ने आगजनी, पथराव और चक्काजाम किया। हालांकि कुछ राज्यों की सरकारों ने कहा कि वे अपने यहां की नौकिरियों में अग्निवीरों को प्रथामिकता देगी, लेकिन बवाल फिर भी जारी है। पटना में छात्रों ने विरोध करते हुए रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह का पुतला भी जलाया।
webdunia
बिहार में आगजनी : बिहार के जहानाबाद, बक्सर में छात्रों ने बवाल किया है। यहां दूसरे दिन भी प्रदर्शन जारी रहा है। यहां छात्रों ने सड़कों को जाम किया और आगजनी भी हुई। छात्रों ने जहानाबाद में NH-83 और NH-110 जाम कर आगजनी की। यहां रेलवे ट्रैक को भी जाम किया गया। सहरसा से खुलने वाली सहरसा नई दिल्ली सुपरफास्ट वैशाली एक्सप्रेस, सहरसा पटना राजरानी सुपर स्टार एक्सप्रेस पिछले कई घंटों तक स्टेशन पर खड़ी रही।
विरोध कर रहे युवाओं का कहना था कि पिछले 3 साल से फौज में भर्ती नहीं की गई है और अब सिर्फ 4 साल की भर्ती की जाएगी। बक्सर, मुजफ्फरपुर, गया में भी विरोध हुआ था। सेना में चार साल की भर्ती वाली इस स्कीम से नाराज युवाओं ने कल पत्थरबाजी भी की थी।
युवाओं का कहना था कि फिजिकल क्लीयर होने के बावजूद दो साल से सेना ने उनको भर्ती नहीं किया है। इसी बीच सरकार नई स्कीम लेकर आ गई है। युवाओं के प्रदर्शन को स्थानीय नेताओं का भी साथ मिला।

सोमवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आर्म्ड फोर्सेज में 4 साल की नौकरी के लिए अग्निपथ भर्ती योजना शुरू की। इसके तहत 90 दिनों के भीतर करीब 46 हजार भर्तियां होनी है। बताया गया है कि ये भर्तियां देश के सभी 773 जिलों से होंगी, लेकिन कई युवा इससे खुश नहीं है।

विपक्ष का विरोध : वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी. चिदंबरम ने कहा कि 'अग्निपथ' योजना विवादास्पद है... इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि इस योजना के तहत भर्ती किए गए सैनिक बेहतर प्रशिक्षित और प्रेरित होंगे...हमने सेवानिवृत्त रक्षा अधिकारियों के विचार पढ़े और सुने हैं, लगभग सर्वसम्मति से उन्होंने इसका विरोध किया है। राज्यसभा सांसद डॉ. वी. शिवदासन ने अग्निपथ योजना पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर केंद्र सरकार से आग्रह किया कि सशस्त्र बलों को अनुबंधित करने के वर्तमान फैसले को वापस लिया जाए। 

कांग्रेस नेता दीपेंद्र सिंह हुड्डा ने केंद्र सरकार का से आग्रह किया कि अग्निपथ योजना को तुरंत वापस ले क्योंकि ये ना देश की सुरक्षा के हित में है, ना राष्ट्र हित में और ना युवाओं के भविष्य हित में है। आप हर विषय पर राजनीति करें लेकिन फौज पर राजनीति न करें।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

Coronavirus : दिल्ली में लगातार बढ़ रहे कोरोना मामले, 10 दिनों में 7 हजार से ज्‍यादा केस