Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

रावत पर भड़के कैप्टन अमरिंदर सिंह, कहा- ये अपमान नहीं तो और क्या था, पूरी दुनिया ने देखा है...

webdunia
शुक्रवार, 1 अक्टूबर 2021 (22:19 IST)
नई दिल्ली। पंजाब के पूर्व मुख्‍यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह पंजाब मामलों के पूर्व प्रभारी कांग्रेस नेता हरीश रावत के बयान पर तल्ख टिप्पणी की है। उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया ने मेरा तिरस्कार और अपमान देखा है। फिर भी हरीश रावत इसके उलट दावे कर रहे हैं। 
 
कैप्टन सिंह ने कहा कि यह अपमान नहीं तो क्या था। पूरी दुनिया ने मेरा अपमान देखा है। उल्लेखनीय है कि मुख्‍यमंत्री पद से हटाए जाने के बाद से कैप्टन कांग्रेस से काफी नाराज चल रहे हैं। उन्होंने कहा था कि जिस तरह से उन्हें पद से हटाया गया, वे उससे काफी अपमानित महसूस कर रहे हैं। 
 
दूसरी ओर, हरीश रावत का कहना है कि इन रिपोर्टों में कोई तथ्य नहीं है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह का कांग्रेस द्वारा अपमान किया गया था। कैप्टन के हालिया बयानों से लगता है कि वे किसी तरह के दबाव में हैं। उन्हें अपने फैसले पर पुनर्विचार करना चाहिए। साथ ही प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से भाजपा की मदद नहीं करनी चाहिए। 
 
रावत ने गिनाए कांग्रेस के अहसान : रावत ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने हमेशा कैप्टन अमरिंदर सिंह और उनके परिवार का सम्मान किया है। रावत ने कहा 1998 में पटियाला निर्वाचन क्षेत्र से करारी हार झेलने के बाद भी अमरिंदर को कांग्रेस पार्टी में शामिल किया गया और श्रीमती सोनिया गांधी ने उन्हें तुरंत प्रदेश अध्यक्ष बनाया।
webdunia

साल 1999 से 2002, 2010 से 2013 और 2015 से 2017 तक तीन मौकों पर पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष के रूप में उनको पंजाब की कमान दी गई। दो बार कांग्रेस पार्टी ने उन्हें 2002 से 2007 और 2017 से 2021 तक पंजाब का मुख्यमंत्री बनाया। 
 
रावत ने कहा कि साथियों और केंद्रीय नेतृत्व से लगातार याद दिलाने के बावजूद दुर्भाग्य से कैप्टन अमरिंदर ड्रग्स, बिजली आदि महत्वपूर्ण मुद्दों पर अपने वादों को निभाने में विफल रहे। पूरे राज्य में एक आम धारणा थी कि कैप्टन और बादल एक-दूसरे की मदद कर रहे हैं और दोनों में एक गुप्त समझ है। 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

भारतीय सेना ने दिया शौर्य, सूझबूझ और संयम का परिचय, यही है 'सच्चे सैनिक धर्म' की पहचान