Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

टीचर कहती थी तुम कुछ नहीं कर पाओगे, छात्र ने कुछ यूं दी अपने पास होने की सूचना

हमें फॉलो करें webdunia
गुरुवार, 28 जुलाई 2022 (12:54 IST)
क्लास में ध्यान न देने वाले छात्रों को टीचर अक्सर ये कह देते हैं कि अगर ऐसा ही चलता रहा, तो तुम जीवन में कुछ नहीं कर पाओगे। ऐसी बातों को या तो छात्र अनसुना कर देते हैं, या तो दिल पर लेकर पढ़ाई में जुट जाते हैं। सोशल मीडिया पर इन दिनों एक शिक्षक और छात्र के बीच हुई WhatsApp चैट का स्क्रीनशॉट बहुत वायरल हो रहा है, जिसे पढ़कर ऐसा लगता है कि इस छात्र ने अपने शिक्षक को बातों को कुछ ज्यादा ही दिल पर ले लिया। 
 
स्क्रीनशॉट में लिखी गई बातों को पढ़कर अपने स्कूल के दिनों को याद किया जा सकता है। स्क्रीनशॉट की पोस्ट पर आए कमैंट्स को देखकर लगता है कि इस छात्र ने कई लोगों के मन की बात कह दी हो।  
 
बातचीत के अनुसार छात्र ने पहले मैसेज भेजकर ये कन्फर्म किया कि ये उसकी टीचर आशा मैडम का नंबर है या नहीं। मैडम का रिप्लाई आने के बाद छात्र ने लिखा कि हेलो मैडम! मैं आपकी 2019-20 बैच में आपकी स्टूडेंट रह चुकी हूं। आपने कहा था कि मैं अपने जीवन में कुछ नहीं कर सकती। आपने ये भी कहा था कि मैं स्कूल पास नहीं कर सकती। आपने उस दौरान मुझे बहुत जलील किया। लेकिन, आज मैं अपनी मनपसंद यूनिवर्सिटी में वही कोर्स कर रही हूं, जी मैं करना चाहती थी। मेरा आपसे निवेदन है कि आगे से लोगों के साथ दया भाव से पेश आने का प्रयास कीजिएगा। खासतौर पर उन विद्यार्थियों के साथ, जिन्हें आपकी मदद की जरूरत हो। 

इस पोस्ट पर रिप्लाई करते हुए एक यूजर ने पुछा कि मैडम ने कुछ जवाब दिया की नहीं। इस पर छात्र ने मैडम के रिप्लाई का स्क्रीनशॉट खींचकर पोस्ट किया। जिसमें लिखा था कि मैं अब भी तुम्हारी सफलता का क्रेडिट लेना चाहूंगी।  
 
छात्र के जोरदार जवाब वाले इस स्क्रीनशॉट को अब तक 60 हजार से ज्यादा लोग लाइक कर चुके हैं। इस पर लोगों ने कमेंट करते हुए कहा कि हर छात्र के सीखने की क्षमता अलग-अलग होती है। शिक्षकों को इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि किस छात्र से कैसे पेश आना है। 
 

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

निर्मला सीतारमण का बड़ा आरोप, सोनिया गांधी ने भाजपा सांसद को धमकाया (Live)