सीमा पार आतंकियों का जमावड़ा, घुसपैठ की कोशिश के बीच भीषण गोलीबारी

सुरेश डुग्गर

मंगलवार, 6 अगस्त 2019 (18:41 IST)
जम्मू। पाकिस्तानी सेना ने मंगलवार को एलओसी से सटे कुपवाड़ा जिले में आतंकियों के एक बड़े दल की घुसपैठ का प्रयास किया गया है। कुपवाड़ा के मच्छेल सेक्टर में पाकिस्तानी आतंकियों की घुसपैठ की बड़ी कोशिश को भारतीय सेना ने नाकाम किया है। इस कोशिश में दोनों के बीच भीषण मिनी युद्ध भी हुआ है, जिसमें सेना का एक जवान भी जख्मी हुआ है।
 
बताया जा रहा है कि पाकिस्तान की ओर से 8-10 आतंकियों के एक दल ने घुसपैठ की कोशिश की है। इस बीच सेना ने दावा किया है कि पाकिस्तानी सेना ने एलओसी के पार आतंकियों का जमावड़ा एकत्र कर लिया है, जिन्हें वह बर्फबारी से पहले इस ओर धकेलना चाहती है।
 
सैन्य सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, पाकिस्तान की ओर से 8-10 आतंकियों के एक दल ने सोमवार-मंगलवार की रात को घुसपैठ का प्रयास किया था। आतंकियों के इस दल ने एलओसी पर स्थित कुपवाड़ा के मच्छेल सेक्टर के रास्ते घुसपैठ की कोशिश की। एलओसी पर संदिग्ध गतिविधि देखने के बाद जवानों ने आतंकियों को ललकारा, जिसके बाद घुसपैठियों ने जवानों पर गोलीबारी शुरू कर दी। 
 
इसके बाद सेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए आतंकियों की कोशिश को नाकाम किया। इस मुठभेड़ में कुछ आतंकियों के मारे जाने की भी सूचना है, हालांकि अब तक इस संबंध में आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है। बताया जा रहा है कि ये आतंकी एलओसी पार कर करीब 500 मीटर अंदर तक भारतीय इलाके में घुसे थे, जिन्हें जवानों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए वापस खदेड़ दिया।
 
एलओसी पर आतंकियों और सुरक्षाबलों के बीच हुए इस ऑपरेशन में सेना का एक जवान गंभीर रूप से घायल हुआ, जिसे तत्काल इलाज के लिए कुपवाड़ा से एयरलिफ्ट कर श्रीनगर स्थित सेना के 92 बेस अस्पताल में शिफ्ट कराया।
 
सैन्य सूत्रों के अनुसार मुठभेड़ में घायल जवान की स्थिति फिलहाल स्थिर है और उसे चिकित्सकीय निगरानी में रखा गया है। बता दें कि भारतीय सेना ने हाल ही में एलओसी से सटे केरन सेक्टर में पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब देते हुए बैट के 7 कमांडोज को मार गिराया और बाद में पाकिस्तान को यह शव ले जाने के लिए भी कहा।
 
इस बीच, सेना का कहना है कि पाकिस्तान ने पिछले कुछ दिनों में एलओसी के साथ बनाए गए लांचिंग पैड पर आतंकवादियों की ताकत बढ़ाना शुरू कर दी है। जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ कराने के प्रयास भी तेज कर दिए गए हैं। जम्मू, पुंछ, राजौरी और अब कश्मीर की सीमाओं पर संघर्ष विराम का उल्लंघन किया जा रहा है। बिना उकसावे की गोलाबारी की आड़ में आतंकियों की घुसपैठ कराने की कोशिश हो रही है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख Team India को इसलिए चाहिए स्पिनर कोच...