अलीगढ़ में मासूम की हत्या का दिल दहलाने वाला कांड, जानिए कब क्या हुआ

शनिवार, 8 जून 2019 (16:10 IST)
अलीगढ़। उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ ढाई साल की बच्ची की बेरहमी से हत्या से हड़कंप मच गया। देश के कोने-कोने से मासूम बच्ची को न्याय दिलाने के लिए आवाजें उठने लगी। सभी आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं। सरकार ने मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन कर दिया गया है। साथ ही इस केस में पॉक्सो एक्ट लगाया गया है। इस बीच, जांच कर रही एसआईटी टीम को आशंका है कि बच्ची के शव को फ्रीज में रखा गया था। जानिए मामले का संपूर्ण घटनाक्रम... 
 
- 30 मई को जब बच्ची लापता हुई तो माता-पिता का इस घटना की ओर ध्यान ही नहीं गया। बच्ची के पिता ने बच्ची के लापता होने पर पुलिस को बताया था कि उसकी किसी से रंजिश नहीं है।
- 2 जून को बच्ची का शव आरोपी के घर के बाहर कूड़े के ढेर में पाया गया।
- पुलिस ने आरोपी को 4 जून को गिरफ्तार किया। आरोपी का नाम जाहिद है। इस मामले में आरोपी के एक साथी असलम को भी गिरफ्तार किया गया।
- वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश कुलहरि ने गुरुवार को बताया कि गत 31 मई को टप्पल से लापता हुई 3 साल की बच्ची का क्षत-विक्षत शव गत 2 जून को उसके घर के पास एक कूड़े के ढेर में दबा पाया गया।
- उन्होंने बताया कि बच्ची के पिता की शिकायत पर जाहिद और असलम नामक व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है। 
- बच्ची के माता-पिता ने आरोपियों से 50 हजार रुपए उधार लिए थे, जिसमें से 40 हजार रुपए वापस किए जा चुके थे। केवल 10 हजार रुपए बाकी रह गए थे। इस पर एक रोज आरोपी ने बच्ची के पिता को रोककर पैसे लौटाने को कहा तो दोनों के बीच विवाद हो गया। इस पर आरोपी बच्ची के पिता को जाते-जाते देख लेने की धमकी दे गया।
- कुलहरि ने बताया कि बच्ची की पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में बच्ची से बलात्कार के संकेत नहीं मिले हैं। उसकी गला दबाकर हत्या की गई है। वारदात की गंभीरता को देखते हुए दोनों अभियुक्तों पर राष्ट्रीय सुरक्षा कानून लगाए जाने की कार्रवाई शुरू कर दी गई है। 
- मामला 2 समुदायों से जुड़ा होने की वजह से बुधवार को पैदा हुए तनाव के मद्देनजर बड़ी संख्या में पुलिस के जवानों को तैनात किया गया।
- घटना से देशभर में हड़कंप मच गया। लोगों ने सोशलमीडिया पर इस घटना की जमकर निंदा की और दरिंदों को फांसी की सजा देने की मांग की। 
- अभिषेक बच्चन, सनी लियोनी, सोनम कपूर, अनुपम खेर समेत बॉलीवुड की कई हस्तियां का गुस्सा भी फूट पड़ा। 
- प्रियंका गांधी, राहुल गांधी, साध्वी निरंजन ज्योति और अखिलेश यादव ने भी घटना की निंदा करते हुए आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की।
- सोशल मीडिया पर घटना को लेकर अफवाहों का बाजार भी गर्म था।  
- मासूम की हत्या बहुत ही बर्बरता से की गई है। मेडिकल रिपोर्ट में भी अंग भंग की बात कही गई है।
- घटना की गंभीरता को देखते हुए एक इंस्पेक्टर समेत पांच पुलिसकर्मी निलंबित कर दिए गए।
- इस घटना को लेकर केंद्रीय मंत्री साध्वी निरंजन ज्योति ने कहा है कि ऐसे जघन्य अपराध के बारे में सुनकर ही रूह कांप जाती है, इसमें जो भी दोषी है उसे कड़ी से कड़ी सजा मिलेगी। 
- दूसरी ओर समाजवादी पार्टी की ओर से टि्वटर के द्वारा जारी किए गए बयान में कहा गया है कि यूपी में हत्या और दुष्कर्म की बढ़ती वारदातें प्रदेश सरकार की नाकामी की देन हैं। 
- पीड़ित मां ने कहा कि जिन्होंने यह जघन्य कृत्य किया है उन्हें कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए। इस मां को तब शांति मिलेगी जब इन अपराधियों को फांसी के फंदे पर लटकता देखूंगी।
- राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग (एनसीपीसीआर) ने कहा कि बच्ची की पहचान उजागर करना पॉक्सो कानून,2012 की धारा 23 और जेजे कानून, 2015 की धारा 74 के तहत दंडनीय अपराध है।
- पुलिस ने 8 जून को मुख्य आरोपी जाहिद के भाई और मां को गिरफ्तार कर लिया।
- पीड़ित परिवार ने कहा है कि आरोपियों को 24 घंटे में फांसी दी जाए नहीं तो थाने के सामने खुदकुशी कर लेंगे।
- अलीगढ़ में वकीलों ने पीड़ित बच्ची के परिवार का साथ देने का फैसला किया है। अलीगढ़ बार एसोसिएशन ने ऐलान किया है कि कोई भी वकील इस मामले के आरोपितों का केस नहीं लड़ेगा।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख MIG 29K विमान में आग, गोवा एयरपोर्ट बंद