जम्मू कश्मीर में सेना को मिली बड़ी सफलता, पीएचडी होल्डर कमांडर समेत 5 आतंकी ठोंक डाले

सुरेश डुग्गर

रविवार, 10 फ़रवरी 2019 (17:05 IST)
जम्मू। दक्षिण कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षा बलों ने रविवार को एक बड़ी सफलता हासिल करते हुए हिजबुल मुजाहिदीन के 5 आतंकियों को मार गिराया। इनमें एक आतंकी कमांडर पीएचडी होल्डर है। ये सभी आतंकी स्थानीय बताए जा रहे हैं। मुठभेड़ के दौरान सीआरपीएफ के 4 जवानों के भी घायल होने की सूचना है। कुलगाम में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं बंद कर दी गई हैं।
 
खबरों के मुताबिक शनिवार देर रात सेना को केलम इलाके में आतंकियों के होने की जानकारी मिली थी। इस सूचना के बाद सेना की 9 राष्ट्रीय राइफल्स, जम्मू-कश्मीर पुलिस की एसओजी और केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के जवानों ने केलम गांव की घेराबंदी की। इसके बाद जवानों ने इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू किया। जहां 2 घरों में छिपे आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर फायरिंग शुरू की। इस गोलीबारी के बाद जवानों ने जवाबी कार्रवाई करते हुए रविवार सुबह आतंकियों के खिलाफ काउंटर ऑपरेशन शुरू किया।
 
सुबह 5 बजे के आसपास शुरू हुए इस ऑपरेशन के 6 घंटे बीतने के बाद सेना ने यहां के 2 घरों को उड़ा दिया। इस कार्रवाई में मकान के अंदर छिपे 5 आतंकी मौके पर ही मार गिराए गए जिसके बाद सुरक्षाबलों ने इलाके में सर्च ऑपरेशन शुरू किया। सर्च के दौरान सेना ने यहां सभी आतंकियों के शवों के साथ भारी मात्रा में गोला-बारूद और अन्य सामान बरामद किया। स्थानीय सूत्रों के मुताबिक मारे गए आतंकियों में एक मोस्ट वॉन्टेड कमांडर भी शामिल हो सकता है, हालांकि सेना या पुलिस ने इसे लेकर अभी कोई जानकारी नहीं दी है।
 
अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ स्थल से हथियार और युद्ध जैसी सामग्री बरामद की गई है। एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि मुठभेड़ स्थल के समीप प्रदर्शनकारियों और सुरक्षाबलों के बीच झड़पें शुरू हो गईं। अभी इसमें किसी के घायल होने की कोई सूचना नहीं है। कानून प्रवर्तन एजेंसियां इलाके में व्यवस्था बहाल करने की कोशिश कर रही हैं।
 
मारे गए आतंकियों में वसीम बशीर राथर (कुलगाम), जाहिद पारे (कुलगाम), इदरीस भट्ट (अनंतनाग), आकिब नाजिर मीर (कुलगाम) और परवेज भट्ट (मुकद्दमपोरा) शामिल हैं। प्रारंभिक सूचनाओं के अनुसार मुठभेड़ में मारा गया हिजबुल आतंकी वसीम बशीर पीएचडी स्कॉलर था।
 
मुठभेड़ के दौरान पत्थरबाजों ने सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया। जिसके बाद सुरक्षाबलों ने आंसू गैस के गोलों का प्रयोग करते हुए उन्हें भगाने की कोशिश की, मगर तनाव बढ़ता गया। उधर मुठभेड़ शुरू होते ही पूरे इलाके में इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है, वहीं रेल सेवा भी आज श्रीनगर से बनिहाल तक बंद कर दी गई है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख नासिक में पारा 3 डिग्री गिरा, अंगूर उत्पादकों ने फसल बचाने के लिए अलाव जलाए