महिला-पुरुष समानता के लिए वुमन्स डे पर जिम्मी मगिलिगन सेंटर पर “पुरुषों के लिए सोलर कुकिंग वर्कशॉप”

गुरुवार, 7 मार्च 2019 (14:56 IST)
कुकिंग शब्द का मतलब महिला ही है, इस सोच व व्यवहार में परिवर्तन लाने की आवश्यकता है। इसी उद्देश्य से जिम्मी मगिलिगन सेंटर फ़ॉर सस्टेनेबल डेवेलपमेंट, सनावदिया, इंदौर पर अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस 8 मार्च 2019 को महिला-पुरुष समानता के लिए “सोलर कुकिंग वर्कशॉप”आयोजित हुई। यह वर्कशॉप उन सभी पुरुषों के लिए थी, जो अपनी दादी, नानी मां, सास, बहन पत्नी बेटी बहु की खाना बनाने में मदद तो करना चाहते हैं पर वे नहीं जानते कि इसे कैसे किया जाए, क्योंकि वे खाना पकाना नहीं जानते।
इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए कुछ ऐसे पुरुषों को इस पहल में शामिल किया गया, जो महिला-पुरुष समानता की सोच ही नहीं, सच में अपने जीवन में खाना बनाते हैं या सीखना चाहते हैं। लेकिन जनक दीदी कहती हैं कि  लड़कों को सोलर कुकिंग में सशक्त कर यह बदलाव जरूरी है। प्रशिक्षण कार्यशाला के प्रमुख प्रशिक्षक श्री प्रेम जोशी जी व उनकी टीम राजेन्द्र सिंह,वरुण रहेजा समीर शर्मा, राजेन्द्र चौहान,सुनील चोहान व साथी थे।
कार्यक्रम मार्च 8 सुबह 9.30 बजे से 2 बजे तक सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ बहाई प्रार्थनाओं, महिला और पुरुष की समानता के सिद्धांतों के साथ श्रीमती जनक ने किया। कार्यक्रम के कोऑर्डिनेटर श्री समीर शर्मा ने बताया कि इन अवसर पर पद्म श्री जनक पलटा जी के साथ 55 प्रतिभागियों ने इसमें हिस्सा लिया।
जो कुकिंग मैन्यु में - अम्बाडी का शरबत गौतम कासलीवाल द्वारा, दाल-फ्राइड राइस राजेन्द्र सिंह द्वारा, चील भाभरा भाजी, मिठाई श्री प्रेम जोशी जी, बैगन भरता श्री आदित्य पांडे जी ने बनाना सिखाया। सभी पुरुषों ने पूरा खाना सोलर कुकर पर बनाया और सभी महिलाओं को खि‍लाया। 

इस अवसर पर IATV स्कूल की प्रिंसिपल श्रोमती शुभा रञ्जन चटर्जी उनका स्टाफ उर 25 बच्चे, पूनम ज्वेल, विशाल ज्वेल, प्रेम जोशी, आदित्य पांडे, अवधेश यादव, राजेश शर्मा, पंकज अग्रवाल , गोविंद माहेश्वरी, गौतम कासलीवाल, सुनील चौहान, राजेन्द्र चौहान, नंदा चौहान और समीर शर्मा उपस्थित थे।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

अगला लेख भाजपा के लिए लकी है यह कुर्सी, 3 साल बाद फिर इस पर बैठेंगे मोदी