Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

नैनीताल के पास आतंक मचाने वाली मादा तेंदुआ पिंजरे में कैद

webdunia
webdunia

हिमा अग्रवाल

उत्तराखंड के नैनीताल के पास चारखेत क्षेत्र में आतंक मचाने वाली मादा गुलदार आखिरकार में पिंजरे में कैद हो ही गई। इस तस्वीर को गौर से देखिए, जंगल में आतंक का पर्याय पिंजरे में बंद मादा तेंदुआ कैसे गुर्रा रही है। आबादी के बीच इस वन्य जीव ने कैसे दहशत फैलाई, आइए हम आपको बताते हैं।
 
पिछले एक माह से इस मादा तेंदुए ने पर्यटन स्थल नैनीताल के पास स्थित चारखेत गांव क्षेत्र में आतंक मचा रखा था। यह मादा तेंदुआ है, जो रिहायशी इलाके में पालतू कुत्तों और मवेशियों को अपना शिकार बना चुकी है।

गांव में इतना आतंक था कि लोग सांझ होते ही घरों में दुबक जाते थे। ग्रामीणों की शिकायत पर इसे पकड़ने के लिए वन विभाग ने ट्रैपिंग कैमरे और पिंजरे लगाए।
webdunia
ये मादा तेंदुआ इतनी शातिर थी कि उसने वन विभाग के लगाए पिंजरे में बांधी बकरी को भी अपना निवाला बना लिया, लेकिन कैद होने से बच गई। मादा तेंदुआ की लुका-छिपी का यह खेल ज्यादा दिन नहीं चल सका।

आखिरकार वन विभाग की कोशिश रंग लाई और यह मादा तेंदुआ गुलदार आज वन विभाग के पिंजरे में कैद हो ही गई। जैसे ही उसके पिंजरे में कैद होने की सूचना गांव वालों को लगी, उसे देखने के लिए तांता लग गया।

कई लोग इस दृश्य को अपने मोबाइल कैमरे में कैद करने लगे। पिंजरे में कैद मादा तेंदुआ इतनी गुस्से में थी कि उसने गुर्रा-गुर्राकर आसमान सिर पर उठा लिया।
webdunia
वन रेंज अधिकारी प्रमोद तिवारी का कहना है कि इस मादा तेंदुए को रेस्क्यू सेंटर रानी बाग भेजा जा रहा है, जहां इसका उपचार किया जाएगा। साथ ही इलाके में गश्त जारी रहेगी, जिससे दूसरे तेंदुओं को आबादी में आने से रोका जा सके।
 
गुलदार के पिंजरे में कैद होने से ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है। प्रश्न यह उठता है कि जंगल के प्राणी शहरों और आबादी की तरफ क्यों आ रहे हैं? इसका जबाव आपको और हमें सोचना होगा क्योंकि जब हम इनकी सीमा में अतिक्रमण करेंगे तो यह कहां जाएंगे?

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

सुशांत सुसाइड केस : सुशांत की मौत से पहले घर पर पार्टी नहीं हुई, खाते में हैं अब भी साढ़े 4 करोड़ रुपए