भारत का डीएनए है हिन्दू, राम 'राष्ट्रीय भगवान' : स्वामी

शनिवार, 17 नवंबर 2018 (22:41 IST)
वाराणसी। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद सुब्रह्मण्यम स्वामी ने शनिवार को कहा कि भारत का 'डीएनए' हिन्दू है और प्रभु राम यहां के 'राष्ट्रीय भगवान'। अयोध्या में उनके मंदिर निर्माण को देश की कोई भी ताकत नहीं रोक सकती।
 
 
काशी हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) के ऐतिहासिक स्वतंत्रता भवन सभागार में अशोक सिंघल स्मृति व्याख्यान के तहत 'राम जन्मभूमि मंदिर : स्थिति एवं संभावनाएं' विषय पर अपने संबोधन में स्वामी ने कहा कि अयोध्या में भगवान राम का मंदिर भारत की अस्मिता से जुड़ा हुआ है तथा इसके निर्माण का कार्य जल्द से जल्द शुरू होना चाहिए।
 
पूर्व केंद्रीय विधि एवं कानून मंत्री स्वामी ने मुस्लिम शासकों पर करीब 200 वर्षों के शासन के दौरान मंदिरों को तबाह करने का आरोप लगाते हुए कहा कि हमारी कमजोरी है कि आज तक राम मंदिर नहीं बना। राम के लिए हम भी कानून बदल सकते हैं।
 
उन्होंने कहा कि सारे कारण मंदिर निर्माण के पक्ष में मौजूद हैं, लेकिन मस्जिद के लिए एक भी कारण नहीं। उन्होंने कहा कि अदालत ने भी रामजन्म भूमि-बाबरी मस्जिद विवाद से जुड़े एक मामले की सुनवाई के दौरान नमाज करने के लिए मस्जिद होने की अनिवार्यता नहीं होने का फैसला देकर राम जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का आधा रास्ता साफ कर दिया है।
 
स्वामी ने कहा कि भारत के संविधान में आर्टिकल 25 के तहत किसी भी नागरिक को पूजा करने के अधिकार से वंचित नहीं किया जा सकता है। इसी अधिकार का हवाला देकर उन्होंने उच्चतम न्यायालय के समक्ष इस मामले को रखा है जिसमें उन्हें उम्मीद है कि कोई ज्यादा वक्त नहीं लगेगा और फैसला उनके ही पक्ष में आएगा।
 
उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि मुस्लिम पक्षकार जमीन हासिल करने के लिए मामले को अदालत में ले गए हैं तथा वे तकनीकी रूप से जमीन का मुद्दा उठा रहे हैं, लेकिन उनके (स्वामी) लिए सिर्फ आस्था का विषय है।
 
भाजपा के राष्ट्रीय नेता ने कहा कि मुस्लिम शासकों और अंग्रेजों द्वारा करीब 400 वर्षों तक भारत के हिन्दुओं को तबाह करने की कोशिशों के बावजूद यहां वर्ष 1947 में 82 फीसदी लोग हिन्दू थे। इससे साफ होता है कि यहां का मूल स्वरूप हिन्दू है। उन्होंने कहा कि महाराणा प्रताप एवं वीर शिवाजी जैसे अनेक हिन्दू महापुरुषों ने देश की अस्मिता की रक्षा के लिए कभी भी हार नहीं मानी।
 
सभागार में दर्शक दीर्घा से मंदिर के समर्थन में लग रहे नारे के साथ मंदिर निर्माण का समय पूछे जाने के सवाल का जवाब देते हुए उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि अब जब वे यहां आएंगे, तब मंदिर निर्माण कार्य शुरू हो चुका होगा। विश्व हिन्दू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष रहे अशोक सिंघल की दूसरी पुण्यतिथि पर उनकी स्मृति में अरुंधती वशिष्ठ अनुसंधान पीठ द्वारा आयोजित व्याख्यान में संस्था के उपाध्यक्ष चंपत राय समेत कई गणमान्य लोगों ने अपने-अपने विचार रखे। (वार्ता)

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING