Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Shakambari devi katha : दुर्गा के अवतारों में एक हैं शाकंभरी देवी, पढ़ें पौराणिक कथा

Webdunia
Shakambhari Mata Story
 
मां शाकंभरी देवी दुर्गा के अवतारों में एक हैं। दुर्गा के सभी अवतारों में से मां रक्तदंतिका, भीमा, भ्रामरी, शताक्षी तथा शाकंभरी प्रसिद्ध हैं। नवरात्रि में इनकी कथा का पाठ अवश्‍य करना चाहिए। 
 
मां शाकंभरी की पौराणिक ग्रंथों में वर्णित कथा के अनुसार, एक समय जब पृथ्‍वी पर दुर्गम नामक दैत्य ने आतंक का माहौल पैदा किया। इस तरह करीब सौ वर्ष तक वर्षा न होने के कारण अन्न-जल के अभाव में भयंकर सूखा पड़ा, जिससे लोग मर रहे थे। जीवन खत्म हो रहा था। उस दैत्य ने ब्रह्माजी से चारों वेद चुरा लिए थे।
 
तब आदिशक्ति मां दुर्गा का रूप मां शाकंभरी देवी में अवतरित हुई, जिनके सौ नेत्र थे। उन्होंने रोना शुरू किया, रोने पर आंसू निकले और इस तरह पूरी धरती में जल का प्रवाह हो गया। अंत में मां शाकंभरी दुर्गम दैत्य का अंत कर दिया।
 
एक अन्य कथा के अनुसार शाकुम्भरा (शाकंभरी) देवी ने 100 वर्षों तक तप किया था और महीने के अंत में एक बार शाकाहारी भोजन कर तप किया था। ऐसी निर्जीव जगह जहां पर 100 वर्ष तक पानी भी नहीं था, वहां पर पेड़-पौधे उत्पन्न हो गए। 
 
यहां पर साधु-संत माता का चमत्कार देखने के लिए आए और उन्हें शाकाहारी भोजन दिया गया। इसका तात्पर्य यह था कि माता केवल शाकाहारी भोजन का भोग ग्रहण करती हैं और इस घटना के बाद से माता का नाम 'शाकंभरी माता' पड़ा। 

ALSO READ: Shakambhari Navratri 2021: गुरुवार से होगी शाकंभरी नवरात्रि की शुरुआत, जानिए महत्व

ALSO READ: 21 जनवरी 2021 से शाकंभरी माता की यात्रा प्रारंभ

घर में चींटियां निकल रही हैं तो जानिए शुभ-अशुभ संकेत

श्री हनुमान चालीसा

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी व्रत-पूजन कैसे करें, 10 जरूरी बातें

श्री बजरंग बाण का पाठ

कोरोना वायरस पर हिन्दी में निबंध

सम्बंधित जानकारी

2 जुलाई : बुध का राशि परिवर्तन और आप, जानिए किस राशि पर कैसा होगा असर

जगन्नाथ रथयात्रा में शामिल होने से और रथ खींचने से मिलता है 100 यज्ञ के समान पुण्य फल

देवशयनी एकादशी के सबसे शुभ मुहूर्त, क्या है महत्व, 5 उपाय, 3 मंत्र के साथ व्रत कथा और सरल पूजा विधि

जगन्नाथ रथयात्रा की 14 रोचक बातें, जानकर दंग रह जाएंगे

10 अगस्त तक मेष राशि में मंगल, ये 4 राशियां रहें संभलकर

देवशयनी एकादशी कब है, जानिए कथा, देव को सुलाने का मंत्र, शुभ मुहूर्त, महत्व, पूजा विधि और उपाय

1 जुलाई से प्रारंभ हो रही है पुरी में जगन्नाथ रथयात्रा, जानिए पौराणिक कथा

गुरु पूर्णिमा 2022 : शुभ मुहूर्त में गुरु को दें यह उपहार, ऋषि-मुनि और बृहस्पति का मिलेगा आशीर्वाद

हरिशयनी एकादशी 10 जुलाई को, देवशयनी, पद्मा, पद्मनाभ एकादशी के 11 लाभ

गुप्त नवरात्रि हो रही है शुरू, क्यों की जाती है दस महाविद्याओं की पूजा?

अगला लेख