लिवाली के दम पर बढ़त में रहे बाजार, उच्चतम स्तर पर

शुक्रवार, 14 दिसंबर 2018 (17:11 IST)
मुंबई। विदेशों से मिले नकारात्मक संकेतों तथा कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट के बीच दूरसंचार, तेल एवं गैस, ऊर्जा तथा बिजली क्षेत्र की कंपनियों में हुई लिवाली से आज घरेलू शेयर बाजार लगातार चौथे दिन बढ़त में रहे और डेढ़ सप्ताह के उच्चतम स्तर पर पहुंच गए। बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 33.29 अंक यानी 0.09 प्रतिशत चढ़कर 35,962.93 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 13.90 अंक यानी 0.13 प्रतिशत की तेजी के साथ 10,805.45 अंक पर रहा। यह दोनों सूचकांकों का 4 दिसंबर के बाद का उच्चतम स्तर है।


स्वास्थ्य, पूंजीगत वस्तुओं तथा टिकाऊ उपभोक्ता उत्पादों की कंपनियों में बिकवाली ने बाजार पर दबाव भी बनाया। वित्त समूह में भी गिरावट रही। सेंसेक्स की कंपनियों में भारती एयरटेल के शेयरों में सवा पांच फीसदी और यस बैंक में सवा तीन प्रतिशत की तेजी रही। एचडीएफसी के शेयर पांच प्रतिशत और विप्रो के डेढ़ फीसदी से ज्यादा गिरे।

अंतरराष्ट्रीय बाजार में आज कच्चे तेल की कीमतों में गिरावट रही। इससे उत्साहित निवेशकों ने ऊर्जा समूह की कंपनियों में भी पैसा लगाया। सेंसेक्स 30.55 अंक की बढ़त में 35,960 अंक पर खुला। कारोबार के आरंभ में इसमें काफी उतार-चढ़ाव रहा। शुरुआती घंटे में ही इसने 35,813.85 अंक के दिवस के निचले और 36,019.02 अंक के दिवस के उच्चतम स्तर को छू लिया। कारोबार की समाप्ति पर यह गत दिवस के मुकाबले 33.29 अंक ऊपर 35,962.93 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स की 30 में से 20 कंपनियां हरे और 10 लाल निशान में बंद हुईं। निफ्टी 7.05 अंक चढ़कर 10,784.50 अंक पर खुला। कारोबार के दौरान इसका दिवस का न्यूनतम स्तर 10,752.10 अंक और उच्चतम स्तर 10,815.75 अंक रहा। कारोबार की समाप्ति पर यह गत दिवस की तुलना में 13.90 अंक ऊपर 10,805.45 अंक पर बंद हुआ। निफ्टी की 50 में से 29 कंपनियों के शेयर हरे तथा शेष 21 के लाल निशान में बंद हुए।

मझोली और छोटी कंपनियों में भी निवेशकों ने पैसे लगाए। बीएसई का मिडकैप 0.19 प्रतिशत चढ़कर 15,192.84 अंक पर और स्मॉलकैप 0.03 प्रतिशत की तेजी के साथ 14,501.76 अंक पर रहा। बीएसई में कुल 2,704 कंपनियों के शेयरों में कारोबार हुआ जिनमें 1,288 के शेयर लाल तथा 1,274 के हरे निशान में बंद हुए। शेष 142 कंपनियों के शेयर अंतत: अपरिवर्तित रहे।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख नीमच में फैल रहा है अवैध वायदा कारोबार, कड़ी कार्रवाई की मांग