Webdunia - Bharat's app for daily news and videos

Install App

Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

गणेशोत्सव : भगवान श्रीगणेश को चढ़ाएं उनका पसंदीदा भोग, पढ़ें 5 खास प्रसाद

हमें फॉलो करें webdunia
गणेशोत्सव के दस दिनों में भगवान श्री गणेश को अलग-अलग पकवानों को भोग लगाया जाता है। अत: गणेश पूजा के अवसर पर भगवान श्री गणेश को मोदक और लड्‍डूओं का भोग अवश्य लगाना चाहिए, क्योंकि यह उनके सबसे प्रिय व्यंजन है। यहां पढ़ें 5 खास प्रसाद- 

बूंदी के लड्‍डू 
 
सामग्री : 3 कटोरी बेसन (दरदरा पिसा हुआ), 2 कटोरी चीनी, एक छोटा चम्मच इलायची पावडर, काजू अथवा बादाम पाव कटोरी, केसर 5-6 लच्छे, मीठा पीला रंग चुटकी भर, तलने के लिए पर्याप्त मात्रा में देसी घी, पाव कप दूध।
 
 
विधि : सबसे पहले बेसन को छान लें। उसमें चुटकी भर मीठा पीला रंग मिलाइए और पानी से घोल तैयार कर लीजिए। अब एक तपेले में पानी एवं शकर को मिलाकर एक तार की चाशनी तैयार कर लें। चाशनी में थोड़ा-सा पीला रंग और केसर हाथ से मसलकर डाल दीजिए। साथ ही पिसी इलायची भी डाल दें।
 
एक कड़ाही में घी गर्म करके छेद वाली स्टील की चलनी या झारे की सहायता से थोड़ी-थोड़ी करके सारे घोल की बूंदी बनाते जाइए और चाशनी में डालते जाइए। जब बूंदी पूरी तरह चाशनी पी लें, तब हाथ पर हल्का-सा घी या पानी लगाकर हल्के से दबाते हुए सभी बूंदी के लड्‍डू तैयार कर लें। लड्‍डू बनाते समय सभी पर एक-एक काजू अथवा बादाम लड्‍डू के ऊपर हाथ से दबा दें। घर पर तैयार किए गए इन खास लड्‍डूओं से भोग लगाएं।

नारियल के मोदक
 
मोदक सामग्री : डेढ़ कप किसा हुआ नारियल, दो बड़े चम्मच घी, एक कप सूजी, एक कप शक्कर, पानी आवश्यकतानुसार, अन्य सामग्री- चुटकी भर मीठा पीला रंग, 5-10 पिस्ता, इलायची पावडर आदि।
 
आसान वि‍धि : एक मोटी तल वाली कड़ाही में घी गरम करके छनी हुई सूजी को हल्का भूरा होने तक सेक लें। अब इसमें किसा हुआ नारियल डालें और थोड़ा सेक लें।
 
तत्पश्चात एक दूसरे पैन में शक्कर-पानी मिलाकर चाशनी बनाएं। ध्यान रहें चाशनी एक तार की हो। अब इसमें मीठा रंग, इलायची मिला लें और उसमें सूजी-नारियल का मिश्रण डालें और अच्छी तरह से मिला लें। फिर थोड़ी देर ढंक कर रखे और ठंडा होने दें। मिश्रण गुनगुना होने पर सभी के मोदक बना लें। ऊपर से एक पिस्ता मोदक के मुंह पर चिपका दें और तैयार स्वादिष्ट नारियल के मोदक प्रसाद में उपयोग में लाएं।


बेसन के लड्डू 
 
सामग्री : 1 कप मोटा बेसन, 1 कप शकर का बूरा, 1 चम्मच पीसी इलायची, 4-5 बड़ा चम्मच घी, मेवे की कतरन पाव कप, चांदी का वर्क (आवश्‍यकतानुसार), केसर या बादाम।
 
विधि : एक कप मोटा लेकर छान लें। अब 4-5 चम्मच घी डालें व लगातार चलाते रहें, जब तक बेसन हल्का भूरा ना हो जाए। बीच-बीच में इस बात का ध्यान रखें कि बेसन जल न जाए। बेसन अच्छी तरह सिंक जाने पर थाली में निकाल कर ठंडा करें।
 
अब शकर बूरा, पीसी इलायची व मेवे की कतरन मिलाएं तथा अच्छी तरह मिक्स कर लें। जब मिश्रण गुनगुना होने लगे तब इसके छोटे-छोटे लड्डू बनाएं और चांदी का वर्क लगाकर सर्व करें। आप चाहे तो चांदी की वर्क की जगह केसर की पत्ती या बादाम का उपयोग कर सकती है।


रवा लड्डू
 
सामग्री : 500 ग्राम रवा, 500 ग्राम घी, 400 ग्राम शकर का बूरा, 25 ग्राम किशमिश, 25 ग्राम चारोली, एक चम्मच इलायची पावडर, गुनगुना पानी आवश्यक्तानुसार।
 
विधि : रवे को छानकर उसमें 2-3 बड़े चम्मच मोयन डालकर अच्छी तरह मिला लें। अब रवे को गुनगुने पानी से कड़ा गूंथ लें। एक कड़ाही में घी गरम रखें। अब गूंथे आटे के बड़े-बड़े मुठिए बनाकर धीमी आंच पर तल लें। अब तले मुठिए को हाथ से बारीक मसलकर उसका रवा तैयार करके चलनी से छान लें। सारे मुठिए का जब रवा तैयार हो जाए तब उसे थोड़ी देर ठंडा होने के लिए रख दें।
 
अब रवे में शकर का बूरा, इलायची पावडर व चारोली मिला दें। आवश्‍यकतानुसार और घी मिला लें ताकि उनके लड्‍डू आसानी से बन जाए। अब लड्‍डू बनाते समय ऊपर से एक-एक किशमिश चिपका दें। लीजिए तैयार टेस्टी रवा लड्‍डू से अपना त्योहार मनाएं।

राइस मोदक
 
सामग्री : 1 कप चावल का आटा, 1 कप बारीक किया हुआ गुड़, 1 कप खोपरे का बूरा, पाव कटोरी मेवे (काजू-किशमिश-बादाम की कतरन), इलायची पावडर आधा चम्मच, चुटकी भर नमक और घी।
 
विधि : सबसे पहले एक कड़ाही में गुड़ पिघला लें तथा उसे थोड़ा गाढ़ा होने दें। फिर उसमें खोपरे का बूरा मिलाकर हल्के से भून लें। अब इस मिश्रण में मेवे की कतरन डालें, मिलाएं और आंच से उतार कर ठंडा होने के लिए रख दें। तत्पश्चात चावल के आटे को पानी की सहायता से नरम गूंथ कर थोड़ी देर ढंक कर रख दें।
 
अब आटे की छोटी-सी लोई हाथ में लेकर फैलाएं, ऊपर से एक छोटा चम्मच मिश्रण रखकर मोदक का आकार सभी मोदक तैयार कर लें। एक कड़ाही में घी गरम करके धीमी आंच पर सभी मोदक तल लें। लीजिए तैयार मेवे भरे चावल के लजीज मोदक से भगवान श्रीगणेश को भोग लगाएं।


Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

हिन्दी कविता : हिन्दी हैं हम, हिन्दोस्तान हैं हम