Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

क्या अलीगढ़ में बूढ़ी मां को घर में बंद कर शाहीन बाग चले गए बेटा-बहू, जानिए सच

webdunia
सोमवार, 10 फ़रवरी 2020 (12:52 IST)
दिल्‍ली के शाहीन बाग में सीएए और एनआरसी के विरोध में लगभग दो महीने से धरना प्रदर्शन चल रहा है। इस बीच एक वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है, जिसे शेयर कर दावा किया जा रहा है कि अलीगढ़ में एक बहू और बेटा अपनी मां को कमरे में बंद करके 10 दिनों के लिए शाहीन बाग चले गए थे।
 
क्या है वायरल पोस्ट में-
 
वीडियो शेयर कर लिखा जा रहा है- “मां को भूखी प्यासी कमरे में बंद कर मुस्लिम बहू और बेटा निकले दिल्ली के शाहीन बाग में मौज मस्ती करने. 10 दिन से कमरे में बंद थी बुजुर्ग महिला. अलीगढ़ मोहल्ला शेखान अपर कोट का यह विडियो जरूर देखें एक बुजुर्ग मुस्लिम महिला को उसके बेटे व बहू ने घर में बुजुर्ग को (10 दिन) भूखा प्यासा घर के अन्दर कमरे मे बन्द कर शहर से बाहर दिल्ली के शाहीन बाग में मौज मस्ती करने चले गये। बेटी ने टी वी के न्यूज चैनल पर भाई भाभी को देख उसे अपनी मां से मिलने की याद आई, घर बन्द देख हुआ शक, घर का ताले तोड़ने पर बेहद बुरी हालत व अधमरी अवस्था में बुजुर्ग महिला को बन्द घर से बाहर निकाला गया।”


 
क्या है सच- 
 
पड़ताल के लिए हमने सबसे पहले वायरल वीडियो में से एक ग्रैब निकाला और इसे रिवर्स इमेज सर्च किया, तो हमें एक न्यूज चैनल R9 TV के यूट्यूब चैनल पर एक न्यूज रिपोर्ट मिली, जिसमें शीर्षक था- ‘अलीगढ़ में एक कलयुगी बेटा अपनी मां को घर के अंदर छोड़कर चला गया’। इस रिपोर्ट के मुताबिक, यूपी के अलीगढ़ में एक बुजुर्ग महिला को उनका बेटा और बहू घर में बंद कर घूमने के लिए मनाली चले गए थे।
 


फिर हमने इस खबर को इंटरनेट पर सर्च किया, तो हमें आजतक की एक रिपोर्ट मिली, जिसके मुताबिक, यह घटना अलीगढ़ के मोहल्ला शेर खान की है, जिसमें एक बेटा अपनी 90 साल की बुजुर्ग मां को घर में बंद कर अपने परिवार के साथ करीब 10 दिन से घूमने के लिए निकल गया था। इस बात की जानकारी मिलने पर बुजुर्ग महिला की बेटी ने अपने भाई समेत 3 लोगों के खिलाफ शिकायत दर्ज करवाई है।
 
वेबदुनिया की पड़ताल में पाया गया है कि बुजुर्ग मां को घर में 10 दिनों से बंद कर बेटा-बहू शाहीन बाग घूमने निकलने का वायरल दावा फर्जी है।

webdunia

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

जेएनयू-जामिया की तरह क्‍या अब गार्गी कॉलेज बनेगा ‘राजनीतिक बहस’ का केंद्र?