Select Your Language

Notifications

webdunia
webdunia
webdunia
webdunia
Advertiesment

Uttarakhand : हर्षिल-छितकुल ट्रैक पर लापता ट्रैकर दल के 11 सदस्यों में से 7 के शव मिले 2 अभी भी लापता

हमें फॉलो करें webdunia

एन. पांडेय

शनिवार, 23 अक्टूबर 2021 (17:38 IST)
उत्तरकाशी के जिला आपदा अधिकारी देवेंद्र पटवाल के अनुसार हर्षिल-छितकुल ट्रैक पर लापता ट्रैकर दल के 11 सदस्यों में से 7 की डेड बॉडी मिल गई हैं। इनमें से 5 के डेड बॉडी उत्तरकाशी ले आई गई हैं जबकि 2 की डेड बॉडी हिमाचल की तरफ से लाई जा रही हैं। दो लोग अभी लापता हैं जबकि दो अन्य को जिन्दा रस्क्यू लिया गया था। अब कोई भी दल उत्तरकाशी जिले में कहीं नहीं फंसा है।
 
केदारनाथ ट्रैक पर गया 7 सदस्यीय दल दो दिन बर्फबारी में फंसने के बाद सुरक्षित उत्तरकाशी लौट आया है। बीते 13 अक्टूबर को टिहरी जनपद के गंगी से मयाली पास केदारनाथ ट्रैक पर गया यह दल बर्फ को पिघलाकर पानी पीकर जीवित रहा।

ट्रैक पर भारी बर्फबारी को देखते हुए दल के गाइड ने आधे में ही अभियान को रोक दिया। बंगाल के 3 ट्रैकर्स के साथ यह 7 सदस्यीय दल गंगी-मयाली पास केदारनाथ ट्रैक के लिए रवाना हुआ था। जब 19 अक्टूबर को जब बर्फबारी रुकी तो ट्रैक पर करीब 3 फुट बर्फ जमा थी। इसके बाद हालात को देखते हुए गाइड विपेंद्र राणा अभियान को वहीं पर समाप्त करते हुए वापस गंगी आकर उत्तरकाशी लौटने का निर्णय लिया।
 
कुमाऊ मंडल के सीमांत जिले पिथौरागढ़ के उच्च हिमालयी क्षेत्र गुंजी से भी आज 42 लोगों को रेस्क्यू किया गया। सेना के चिनूक हेलीकॉप्टर  से 11 हजार फुट की ऊंचाई पर बसे गुंजी में 16 अक्टूबर से फंसे लोगों को नैनी-सैनी एयरपोर्ट लाया गया। रेस्क्यू किए गए अधिकांश लोग देश के विभिन्न हिस्सों के सैलानी हैं।

ये सभी ओम पर्वत और आदि कैलाश के दर्शनों के लिए गए थे, लेकिन भारी बारिश और बर्फबारी के कारण गुंजी में ही फंस गए। चिनूक हेलीकॉप्टर से आज इन सबके साथ ही महाराष्ट्र के एक पर्यटक के शव को भी पिथौरागढ़ लाया गया।

Share this Story:

Follow Webdunia Hindi

अगला लेख

फिर रिकॉर्ड ऊंचाई पर क्यों पहुंचा बिटकॉइन का मूल्य?