हीरो इंडियन सुपर लीग के 6ठे सीजन में टॉप 4 में मुंबई, जमशेदपुर का सफर हुआ समाप्त

शुक्रवार, 7 फ़रवरी 2020 (15:04 IST)
मुंबई। विद्यानंद सिंह के इंजरी टाइम में किए गए शानदार गोल की मदद से मुंबई सिटी एफसी ने गुरुवार रात मुंबई फुटबॉल एरेना में खेले गए रोमांचक मैच में जमशेदपुर एफसी को 2-1 से हरा दिया। इस जीत ने जहां मुंबई को हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के छठे सीजन की अंक तालिका में टॉप-4 में मजबूत किया है वहीं जमशेदपुर का सफर समाप्त हो गया है। 
 
मुंबई का यह 16वां मैच था। उसने 7वीं जीत के साथ अपने कुल अंकों की संख्या 26 कर ली है और वह मजबूती से चौथे पायदान पर विराजमान है। उसके तथा पाचवें स्थान पर कायम चेन्नइयन एफसी (14 मैच, 21 अंक) के बीच अब पांच अंकों का फासला बन गया है। जमशेदपुर का यह 15वां मैच था और लगातार तीसरी हार ने उसे टूर्नामेंट से बाहर कर दिया है। इस टीम के खाते में 16 अंक हैं। 
 
पहला हाफ जमशेदपुर एफसी के पक्ष में 1-0 से समाप्त हुआ। यह गोल उसने सातवें मिनट में पेनल्टी पर किया। बेशक जमशेदपुर ने इस हाफ में अधिक मौके नहीं बनाए लेकिन उसने अपने हक में आए एक मौके को पूरी तरह भुनाया और लीड के साथ दूसरे हाफ में प्रवेश करने में सफल रहा। 
 
जमशेदपुर ने दूसरे मिनट में ही पहला हमला किया था लेकिन सर्गियो कास्टेल का वह प्रयास सीधे गोलकीपर अमरिंदर सिंह के हाथों में चला गया। चौथे मिनट में मुंबई ने गोल कर दिया था लेकिन रेफरी ने पाया कि अमीन चेरमीती ऑफ साइड हैं। पांचवें मिनट में सौरव दास ने बॉक्स के अंदर फारूख चौधरी को गलत तरीके से गिराया, जिस पर मुंबई के खिलाफ पेनल्टी मिली और इस पर सातवें मिनट में गोल करते हुए नोए एकोस्टा ने जमशेदपुर एफसी को आगे कर दिया। 
 
मुंबई ने इसके बाद 12वें, 16वें और 22वें मिनट में अच्छे मूव बनाए लेकिन उसे सफलता नहीं मिली। 24वें मिनट में मुंबई की टीम बराबरी का गोल करने के काफी करीब थी लेकिन वह मौका हाथ से निकल गया। 34वें मिनट में जमशेदपुर ने एक अच्छा हमला किया लेकिन मुंबई की डिफेंस की मुस्तैदी के कारण वह गोल नहीं कर सकी। इसके बाद अगले 10 मिनट तक मैदान पर काफी गहमा-गहमी रही और कई फाउल हुए। इस तरह पहला हाफ जमशेदपुर के हक में 1-0 से समाप्त हुआ। 
 
बराबरी का गोल करने के लिए आतुर मुंबई ने 55वें मिनट में एक अच्छा हमला किया और सुभाशीष बोस ने एक जोरदार प्रयास किया लेकिन उनके तथा गोल के बीच जमशेदपुर के गोलकीपर सुब्रत पॉल आ गए। इसी तरह सर्गे केविन 58वें मिनट में मुंबई के लिए बराबरी का गोल करने के चूक गए। 
 
चेरमीती ने हालांकि चौथे मिनट में ऑफ साइड करार दिए जाने का हिसाब 60वें मिनट में चुकता किया। उन्होंने मुंबई के लिए बराबरी का गोल करते हुए मैच में रोमांच ला दिया। 61वें मिनट में मुंबई की टीम बढ़त लेने के करीब थी लेकिन केविन अपने साथी डिएगो कार्लोस के शानदार पास का फायदा नहीं उठा सके। 
 
संदीप मांडी ने 81वें मिनट में राइट फ्लैंक पर मिले एक पास को रोका और फिर उसे कास्टेल के हवाले किया। कास्टेल ने बाक्स के ठीक बाहर से एक शक्तिशाली शॉट लिया लेकिन गेंद टारगेट को नहीं भेद पाई। 84वें मिनट में मुंबई के गोलकीपर और कप्तान अमरिंदर सिंह ने एक बेहतरीन सेव करते हुए अपनी टीम को पिछड़ने से बचाया। अमरिंदर ने कास्टेल के शॉट को फुल स्ट्रेच करते हुए रोका। 
 
ऐसा लग रहा था कि मैच बराबरी पर समाप्त होगा और मुंबई को अपने घर में अंक बांटने होंगे लेकिन तभी इंजरी टाइम में विद्यानंद ने वह कर दिखाया जिसका इस टीम के प्रशंसकों को इंतजार था। एक शानदार गोल के जरिए विद्यानंद ने मुंबई को 2-1 से जीत दिला दी।
webdunia-ad

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख टेनिस टाटा ओपन में प्रजनेश के बाहर होते ही भारतीय चुनौती समाप्त