प्रज्ञा पाठक

उन्नाव कांड- हम नारियों के सीने में एक और खंजर! तथाकथित सुशिक्षित समाज के मुंह पर एक और झन्नाटेदार तमाचा। भारतीय राजनीति...
प्रात:काल का समय मंगल का, शुभ का माना जाता है। हम में से लगभग हर दूसरे घर में सुबह स्नान कर भगवान की पूजा या नाम स्मरण अवश्य...
आखिर वो बहुप्रतीक्षित फैसला आ ही गया। तीन तलाक अब गैर कानूनी, दंडनीय। सच जानिए,आज हर वो महिला दिल से खुश होगी, जो सिर्फ...
आपने कभी गौर किया है कि हम सदा अपनी सुनाने में यकीन रखते हैं। अपने भीतर का उड़ेलने के लिए आतुर, आत्माभिव्यक्ति के लिए...
एक दिन मैंने घर के बाहर अपनी गाड़ी रोकी। उतरते ही दीदी की हंसी सुनाई दी। बहन की हंसी से लगा, मानो दिनभर का बोझ उतर गया।
उसकी आंखों में आंसू झिलमिला आए थे, सिर्फ इतनी सी बात पर कि 58 के पतिदेव थोड़ा दुबला गए हैं। आज से 27 साल पहले शादी के समय भी...
भारतीय घर-परिवारों में आमतौर पर बुज़ुर्ग दो दशाओं में दिखाई देते हैं। या तो नई पीढ़ी से तालमेल के अभाव में वे उपेक्षित-से...
प्राय: सभी परिवारों में बच्चों को बेहतर भविष्य के लिए अध्ययन के प्रति निष्ठावान रहने की सीख दी जाती है और अधिकांश बच्चे...
गृहस्थ जीवन में कई बार ऐसा समय आता है, जब नीरसता अनुभूत होती है। सब कुछ बेमानी लगने लगता है। अकेलापन भले घर में ना हो,...
ईश्वर यह नहीं देखता कि आप कितनी बार मंदिर गए? कितनी देर उसकी मूर्ति के समक्ष बैठकर विधि-विधान से उसकी पूजा की? कितने वर्षों...
अपने आसपास के लोगों में प्राय: हम कृपणता का भाव देखते हैं। यह कृपणता उनकी सोच से लेकर आचरण और घर से लेकर बाहर तक हर कहीं...
वो प्रेम कली और भंवरे का प्रेम नहीं था, नदी और सागर का था- सदा अनुरक्त, एकनिष्ठ, समर्पित। नेहा और प्रणय मानों एक-दूजे के...
मुख्य मार्ग पर काफी भीड़ जमा थी। शायद कोई दुर्घटना हो गई थी। सामने से इस ओर ही आ रही कार में बैठे पिता-पुत्री ने यह दृश्य...
सामान्य तौर पर भगवान की परिकल्पना में वह दैवीय स्वरुप सामने आता है, जो स्नेह, दया, क्षमा, सौहार्द्र, अपरिग्रह से भरा हुआ...
नए साल में रिज़ोल्यूशन की बहुत चर्चा है। रिज़ोल्यूशन अर्थात् संकल्प। कई लोग नए वर्ष के आरंभ पर कई प्रकार के संकल्प लेते...
सुख' शब्द सुनते ही मन एक मखमली आनंद से भर उठता है। इस जगत् में सभी सुख चाहते हैं। हममें से हर एक सुख का अभिलाषी है।
बारिश का सुहावना मौसम है। प्रकृति अति संपन्न दिखाई दे रही है। थोड़ा धार्मिक हो जाएं, तो कह सकते हैं कि आकाश अर्थात परमात्मा...
जीवन कितना लघु है! एक सांस छूटी और खत्म। हम रोज़ पढ़ते-सुनते-देखते हैं । कभी हृदयाघात, कभी दुर्घटना,कभी रोग और कभी आत्महत्या,...
पति पत्नी का रिश्ता एक मात्र है जो सबसे लंबे समय तक अस्तित्व में रहता है और सर्वाधिक प्रतिकूलता इसी में पाई जाती है और...
क्या किसी के मन में कभी यह विचार आता है कि कभी अपने मन की भी सेल्फी लें? देखें कि वहां कौन-कौन से भावों का साम्राज्य विस्तार...
अगला लेख Author|प्रज्ञा पाठक|Webdunia Hindi Page 2