मप्र में योजनाओं को बंद करने और नाम बदलने पर बिफरे शिवराज

मंगलवार, 16 जुलाई 2019 (14:12 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश में अब योजनाओं को लेकर सियासी घमासान छिड़ गया है। लगभग 7 महीने पुरानी कमलनाथ सरकार ने अब तक पूर्ववर्ती शिवराज सरकार के समय शुरू की गईं लगभग आधा दर्जन योजनाओं का या तो बंद कर दिया है या इनका नाम बदलकर अब नए नाम से चलाया जा रहा है।
 
अपनी सरकार के समय शुरू की गई योजनाओं के नाम बदलने को लेकर अब पूर्व मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ने कांग्रेस सरकार पर जोरदार हमला बोला है। शिवराज ने तंज कसते हुए कहा कि खुद बदलने के डर से भाजपा सरकार की योजनाओं का नाम बदला जा रहा है या बदलने की कोशिश की जा रही है।
 
शिवराज ने सरकार को निशाने पर लेते हुए कि कहा कि आज कमलनाथ सरकार इस मानसिकता के साथ काम कर रही है कि शिवराज ने जो कुछ भी किया सब बदल डालो, जबकि उनकी सरकार के समय सोच-समझकर फैसले लिए गए थे।
शिवराज की इन योजनाओं पर लटकी तलवार 
 
दीनदयाल रसोई योजना : शिवराज सरकार के समय बड़े जोर-शोर के साथ शुरू की गई गरीबों के लिए 5 रुपए भरपेट खाना देने की दीनदयाल रसोई योजना को भले ही सरकार ने आधिकारिक रूप से बंद नहीं किया हो, लेकिन भोपाल सहित कई जिलों में बजट नहीं होने से यह योजना अपने आप बंद होने की कगार पर पहुंच गई या फिर बंद हो गई है। भोपाल, इंदौर और ग्वालियर में दीनदयाल रसोई योजना लगभग पिछले एक महीने से बंद पड़ी है।
 
स्मार्ट फोन योजना : शिवराज सरकार के समय मेधावी छात्रों के लिए शुरू की गई स्मार्ट फोन योजना पर भी तलवार लटक रही है। इस साल अभी तक बजट की कमी के चलते इस योजना को शुरू नहीं किया जा सका है, वहीं उच्च शिक्षा विभाग ने साफ कर दिया कि अब इस योजना को आगे नहीं बढाया जाएगा। योजना के तहत 75 फीसदी नंबर लाने वाले मेधावी छात्रों को स्मार्ट फोन देने की योजना है।
 
दीनदयाल वनांचल योजना : शिवराज सरकार के समय आदिवासियों के कल्याण के लिए शुरू की गई दीनदयाल वनांचल योजना को कमलनाथ सरकार बंद कर चुकी है। सरकार इसके स्थान पर आदिवासियों के लिए नई योजना लाने की तैयारी कर रही है।
 
इन योजनाओं के नाम बदले गए
 
आनंद विभाग : शिवराज सरकार के समय लोगों में खुशहाली लाने के लिए शुरू किया गया आनंद विभाग का नाम अब कमलनाथ सरकार ने बदल दिया है। नई सरकार ने आनंद विभाग का नाम बदलकर अध्यात्म विभाग कर दिया है।
 
संबल योजना : विधानसभा चुनाव से ठीक पहले भाजपा सरकार ने अंसगठित क्षेत्र के मजदूरों के लिए संबल योजना शुरू की थी। लोगों में खासी लोकप्रिय शिवराज की इस महत्वाकांक्षी योजना को कमलनाथ सरकार ने बंद नहीं करके इसका नाम बदलकर अब ‘नया सवेरा’ कर दिया है।
 
समाधान ऑनलाइन योजना : पिछले दिनों कमलनाथ सरकार ने समाधान ऑनलाइन योजना का नाम बदलकर जन अधिकार कर दिया है।
 
इंदिरा गृह ज्योति योजना : शिवराज सरकार के समय शुरू की गई सरल योजना का नाम बदलकर सरकार ने इंदिरा गृह ज्य़ोति योजना कर दिया है। इसमें 100 यूनिट तक की खपत पर 100 रुपए का बिल देना होता है। इसके साथ ही कांग्रेस सरकार ने किसानों के लिए इंदिरा किसान योजना शुरु की है, जिममें किसानों को 10 हॉर्स पॉवर तक के स्थायी पंप कनेक्शन 700 रुपए फ्लेट रेट पर दिया जा रहा है।
 
सरकार की सफाई : पिछली सरकार की योजनाओं को बंद करने और उनका नाम बदलने को लेकर वित्म मंत्री तरुण भनोत का कहना है कि सरकार बदले की भावना से कोई कार्रवाई नहीं कर रही है । पिछले सरकार के समय बहुत-सी ऐसी योजनाएं थी जो सिर्फ कांगजों पर चल रही थीं, इसलिए सभी योजनाओं की समीक्षा की जा रही है।

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख क्या यह विशालकाय कंकाल घटोत्कच का है...जानिए वायरल तस्वीर का पूरा सच...