कविता रैना हत्याकांड : बच्चों को स्कूल लेने गई थीं, शरीर को छह हिस्सों में काटकर फेंका...

बुधवार, 6 फ़रवरी 2019 (12:31 IST)
27 अगस्त 2015 को एक दिल दहला देने वाली घटना में बच्चों को बस स्टॉप लेने गई एक महिला की अपहरण के बाद नृशंस हत्या कर दी गई। हत्यारों ने उसके शरीर को छह हिस्सों में काटकर नाले में फेंक दिया। 
 
भंवरकुआं पुलिस के मुताबिक बुधवार सुबह तीन इमली से गुजरने वाले लोगों ने पुलिया के नीचे प्लास्टिक की दो बोरियों में लाश होने की सूचना दी। टीआई राजेंद्र सोनी मौके पर पहुंचे। महिला का सिर, दोनों हाथ और दोनों पैर कटे हुए थे। ऐसा लग रहा था कि इसके लिए कटर का इस्तेमाल किया गया है। ऐसा माना जा रहा था कि हत्यारों ने महिला की हत्या अन्य जगह की और लाश यहां फेंक दी। उसके शरीर पर चाकुओं के निशान भी थे। महिला की पहचान कविता रैना के रूप में हुई है। फॉरेंसिक विभाग के प्रभारी डॉ. सुधीर शर्मा ने बताया था कि महिला की हत्या 36 घंटों के भीतर की गई है।
 
महिला 24 अगस्त को बेटी को लेने दोपहर 1.20 बजे एक्टिवा लेकर निकली। उसने सास कांता से जाते वक्त कहा कि वह बेटी को लेने जा रही है, लेकिन वह न तो बेटी के पास पहुंच पाई और न ही घर लौटी।
 
पति ने की गलत लाश कि पहचान : दवा कंपनी के एरिया मैनेजर संजय रैना ने कनाड़िया थाने में पत्नी की गुमशुदगी दर्ज कराई थी। संजय को पता चला कि देवास जिले के कैलोद टिगरिया मार्ग पर सुबह एक महिला की झुलसी लाश मिली है, तो वह शिनाख्त के लिए वहां पहुंचा। वह पीली साड़ी देख पत्नी समझा। तभी उसे कनाड़िया थाने से सूचना मिली कि तीन इमली पुलिया के नीचे भी एक महिला की लाश मिली है। उसके हाथ पर कविता ॐ साईं राम लिखा है। इस पर वह तत्काल एमवाय अस्पताल पहुंचा। यहां आकर उसने चेहरा और हाथ पर गुदा नाम देखा तो बेसुध हो गया। उसने लाश की शिनाख्त 30 वर्षीय पत्नी कविता के रूप में की।
 
पुलिस ने इस तरह किया मामले का पर्दाफाश : तत्कालिन उप पुलिस महानिरीक्षक (डीआईजी) संतोष कुमार सिंह ने बताया कि पुलिस की विस्तृत जांच के बाद पकड़े गए आरोपी की पहचान महेश बैरागी (31) के रूप में हुई है। उसकी पत्नी मित्रबंधु नगर में एक बुटीक चलाती है। पुलिस के अुनसार, कविता रैना (30) ने बैरागी की पत्नी के बुटीक पर सूट सिलने दिया था। विवाहिता जब 24 अगस्त को बुटीक पहुंची, तो बैरागी यह कहकर उसे अपने साथ एक फ्लैट में ले गया कि उसका सिला सूट वहीं रखा है।
 
पुलिस ने दावा किया कि कविता पर लंबे समय से बैरागी की गंदी नजर थी और वह साजिश के तहत उसे अपने फ्लैट में ले गया था। उसका इरादा विवाहिता के साथ दुष्कर्म कर इसका वीडियो बनाने का था। वह इस वीडियो के बूते महिला को ब्लैकमेल करना चाहता था। दुष्कर्म की कोशिश के दौरान जब कविता ने विरोध किया, तो बैरागी ने लोहे के पाइप से उसके सिर पर दो-तीन वार किए। विवाहिता के अचेत होने पर उसने चाकू से उसके शरीर के छह टुकड़े कर दिए। उसने इन टुकड़ों को बोरे में भरा और इस बोरे को एक पुल के नीचे फेंक दिया। 
 
हत्याकांड के तीन दिन बाद 27 अगस्त को पुलिस को कविता के अवशेष मिले थे। डीआईजी ने मामले का पर्दाफाश करते हुए कहा था कि बैरागी का पुराना रिकॉर्ड देखकर लगता है कि वह सेक्स को लेकर मनोविकृति का शिकार है। वह अश्लील फिल्म बनाने के मामले में पहले भी पकड़ा जा चुका है।
 
आरोपी बरी : अभियोजन पक्ष को 18 मई 2018 को उस समय को तगड़ा झटका लगा, जब वर्ष 2015 के बहुचर्चित कविता रैना हत्याकांड में गिरफ्तार बुटीक संचालक को जिला अदालत ने संदेह का लाभ देते हुए तमाम आरोपों से बरी कर दिया। दिल दहला देने वाली जघन्य वारदात की शिकार 30 वर्षीय विवाहिता का शव 6 टुकड़ों में मिला था।
 

वेबदुनिया पर पढ़ें

अगला लेख IND Vs NZ 1st T-20 : भारत और न्यूजीलैंड टी-20 मैच का ताजा हाल