Opinion poll : लोकसभा 2019 में फिर देश में बनेगी 'मोदी सरकार', राहुल गांधी को करना होगा इंतजार

गुरुवार, 4 अक्टूबर 2018 (20:23 IST)
नई दिल्ली। 2019 के आगामी लोकसभा चुनाव को लेकर अभी से सुगबुगाहट होनी शुरु हो गई है और देश का मूड अभी से बता रहा है कि एक बार फिर 'मोदी सरकार' सत्ता में काबिज होने जा रही है। हालांकि महागठबंधन की तस्वीर अभी साफ नहीं है, इसके बावजूद यदि आज लोकसभा चुनाव होते हैं तो इसका सबसे बड़ा फायदा एनडीए को होगा। इसका ये मतलब है कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अभी और करना होगा इंतजार। 
 
मौजूदा हालात बता रहे हैं कि चौतरफा आरोपों से घिरी मोदी सरकार को कहीं फायदा तो कहीं नुकसान होता दिखाई दे रहा है। दिल्ली, मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, दिल्ली, हरियाणा में उसे फायदा होता दिखाई दे रहा है। आगामी लोकसभा चुनाव में मोदी सरकार को पटखनी देने के लिए कांग्रेस ने कमर जरूर कसी है लेकिन 'महागठबंधन' की तस्वीर साफ नहीं होने के कारण लगता नहीं कि यूपीए किसी तरह एनडीए को मात दे पाएगा।
 
एबीपी न्यूज और सी वोटर के सर्वे के अनुसार यदि आज लोकसभा चुनाव होते हैं तो देश का मूड बता रहा है कि वह एक बार फिर नरेन्द्र मोदी पर भरोसा करके उन्हें दूसरी बार सत्ता में काबिज होते देखना चाहता है। सर्वेक्षण के अनुसार जहां भाजपा को कई राज्यों में फायदा होता दिखाई दे रहा है, वहीं पंजाब में उसकी तूती नहीं बोलेगी, अलबत्ता दक्षिण भारत में भी कमल के खिलने के आसार हैं। पूर्वोत्तर में भी भाजपा को भारी फायदा हो सकता है।
 
ये सर्वे अगस्त के आखिरी हफ्ते से लेकर सितंबर के आखिर हफ्ते तक किया गया है। सर्वे देश भर में सभी 543 लोकसभा सीटों पर किया गया है और 32 हजार 547 लोगों की राय ली गई है। एबीपी न्यूज़ ने सी वोटर के साथ मिलकर ये सर्वे किया है
 
पंजाब में एनडीए को काफी नुकसान होता दिखाई दे रहा है। पंजाब में लोकसभा की कुल 13 सीटें हैं, जिसमें से 12 यूपीए और 1 एनडीए को जाती दिखाई दे रही है। पूर्वोत्तर में कुल 25 सीटें हैं। इसमें 18 एनडीए, 6 यूपीए और 1 सीट अन्य को जाती दिखाई रही है। दिल्ली में 2014 में सभी 7 सीटें भाजपा के खाते में गई थीं और 2019 में भी यही दोहराव होने जा रहा है। यानी यहां पर कांग्रेस और आप पार्टी का सूपड़ा साफ है।
 
सर्वे के अनुसार, अगर यूपी में महागठबंधन नहीं बनता है तो भाजपा को फायदा होगा लेकिन महागठबंधन की स्थिति में उसे भारी नुकसान होने की आशंका है। वहीं बिहार में अगर एनडीए मौजूद स्वरूप में बना रहा तो एनडीए को 31 सीटें मिल सकती हैं और यूपीए के हिस्से कुल 9 सीटें आ सकती हैं। मध्यप्रदेश, राजस्थान और छत्तीसगढ़ में भी पिछली बार की तरह ही इस बार भी भाजपा की लहर दिखाई दे रही है। 

भाजपा को मिलेगी कितनी सीटें : 2019 के लोकसभा चुनाव में एनडीए को 38 फीसदी और यूपीए को 25 प्रतिशत वोट मिलने की संभावना जताई गई है जबकि 2014 में यह आंकड़ा एनडीए का 40 और यूपीए का 24 फीसदी रहा था। मोटे तौर 2019 के चुनाव में जो संभावना जताई जा रही है, उसके मुताबिक एनडीए को कुल 276, यूपीए को 112 और अन्य को 155 सीटें मिलने जा रही हैं। इसका सीधा मतलब यही है कि एनडीए अपने बूते पर सरकार बना लेगा।

वेबदुनिया पर पढ़ें

सम्बंधित जानकारी

विज्ञापन
जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

LOADING